close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

विशेष: क्या 'महारानी' का बीजेपी में घट गया है कद? क्यों कर रहे हैं हनुमान बेनीवाल टिप्पणी?

आरएलपी प्रमुख के हनुमान बेनीवाल की टिप्पणियों के बाद प्रदेश के सियासी गलियारों में बीजेपी में वसुंधरा राजे के घटते कद पर लगातार चर्चा हो रही है.

विशेष: क्या 'महारानी' का बीजेपी में घट गया है कद? क्यों कर रहे हैं हनुमान बेनीवाल टिप्पणी?
राजे के घटते सियासी कद पर चर्चा जारी है. (फाइल फोटो)

जयपुर: क्या राजस्थान की दिग्गज नेता रहीं वसुंधरा राजे कमज़ोर हो गई हैं? क्या पूर्व सीएम राजे की अब बीजेपी में बिल्कुल नहीं चल रही है? यह सवाल इन दिनों बीजेपी और बीजेपी से बाहर दोनों जगह चर्चा में है और इसका कारण है वसुंधरा के कमज़ोर होने का आरएलपी संयोजक हनुमान बेनीवाल का बयान. कभी बीजेपी से टिकट मांगने वाले हनुमान बेनीवाल अब आरएलपी संयोजक हैं और उन्होंने अपना कद इतना बढ़ा लिया है कि वो अब बीजेपी को अपनी शर्तें मनवाने पर तो मजबूर कर ही पा रहे हैं.

वसुंधरा के विरोधी रहे हनुमान बेनीवाल बीजेपी प्रदेशाध्यक्ष और नेता प्रतिपक्ष के साथ मंच साझा करते हैं. इनता ही नहीं बीजेपी से गठबंधन के बावजूद बेनीवाल बीजेपी की नेता वसुंधरा राजे पर डंके की चोट पर निशाना भी साध रहे हैं. लेकिन बेनीवाल के इन तल्ख बयानों के बाद सवाल यह उठते हैं कि आखिर बेनीवाल बीजेपी के लिए बड़ी ज़रूरत बन गए हैं या मजबूरी?

बेनीवाल को करना चाहिए सम्मान
हालांकि बीजेपी के प्रदेश अध्यक्ष हनुमान वाली मजबूरी ये कहते हुए खारिज कर रहे हैं कि हनुमान को वरिष्ठ नेताओं का सम्मान करना ज़रूरी है. 

बीजेपी ने दी है हिदायत
पूनिया ने बेनीवाल को दी हिदायत के बारे में बताते हुए कहा कि उन्होंने बेनीवाल से कहा है कि गठबंधन का सम्मान सभी की जि़म्मेदारी है और आरएलपी संयोजक को भी बीजेपी के वरिष्ठ नेताओं के खिलाफ़ किसी तरह की बयानबाजी नहीं करनी चाहिए.

क्या राजे से नहीं ली जा रही राय?
बेनीवाल के बयानों और पूनिया कि हिदायत के बीच सवाल यह भी है कि क्या सच में बीजेपी-आरएलपी गठबंध में राजे से सचमुच राय नहीं ली गई. क्या सचमुच राजे का कद घट रहा है. क्या राजे प्रचार के लिए खींवसर जाएंगी?

जानिए क्या कह रहे हैं बीजेपी प्रदेश अध्यक्ष
सतीश पूनिया कहते हैं कि वसुंधरा राजे पार्टी की वरिष्ठ नेता है और इस गठबंधन के लिए उनकी भी राय ली गई थी. पूनिया ने कहा कि प्रचार के लिए नेताओं के दौरे स्थानीय मांग और पार्टी की ज़रूरत से तय किये जाएंगे.

Bhuwanesh Sharma, News Desk