close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

राजस्थान: निकाय चुनाव से पहले हुए नए परिसीमन से नाराज लोग, कर रहे विरोध

शहरवासी यह नहीं समझ पा रहे हैं कि आखिर निगम के जिम्मेदार अधिकारियों ने किस आधार पर वार्डो के नए परिसीमन के कार्य को अंजाम दिया है. कुछ ऐसा ही मामला वार्ड संख्या 48 में सामने आया है.

राजस्थान: निकाय चुनाव से पहले हुए नए परिसीमन से नाराज लोग, कर रहे विरोध
फाइल फोटो

अविनाश जगनावत, उदयपुर: शहर के नगर निगम में नए परिसीमन के बाद निगम के वार्डो की संख्या 55 से बढ़ कर 70 हो गई है. ऐसे में आगामी दिनों में होने वाले निगम के चुनाव में मतदाता निगम के 70 वार्डो में मताधिकार का उपयोग कर अपने पंच को चुनेंगे. नए परिसीमन के कार्य की पारदर्शिता को लेकर निगम प्रशान की ओर से भले ही लाख दावें किए जा रहे हो लेकिन परिसीमन में रही खामियों को लेकर अब जनता का विरोध बढने लगा है. 

शहरवासी यह नहीं समझ पा रहे हैं कि आखिर निगम के जिम्मेदार अधिकारियों ने किस आधार पर वार्डो के नए परिसीमन के कार्य को अंजाम दिया है. कुछ ऐसा ही मामला वार्ड संख्या 48 में सामने आया है. नए परिसीमन के बाद इस वार्ड के बीच में स्थित दो गलियों को वार्ड संख्या 35 में मिला दिया गया. जिसको लेकर पूर्व में भी क्षेत्रवासियों ने अपना विरोध दर्ज कराया लेकिन जिम्मेदारों ने इस ओर ध्यान नहीं दिया. क्षेत्रवासियों ने निगम के अधिकारियों पर बन्द कमरे में बैठ कर वार्डो के परिसीमन का कार्य करने का आरोप लगाया है.

नए परिसीमन में हुई इस लापवारही को लेकर अब हनुमान गली और बैरवा कॉलानी के करीब 500 मतदाताओं ने आगामी चुनाव में मतदान का बहिष्कार करने की चैतावनी दे दी है. क्षेत्रवासियों का कहना है कि इस दोनों गलियों को अगर वार्ड 35 से हटा कर वार्ड 48 में शामिल नहीं किया गया तो वो चुनाव का बहिष्कार तो करेगें ही साथ ही किसी भी प्रत्याशी या राजनैतिक पार्टी के पदाधिकारी को अपनी क्षेत्र में प्रचार करने भी नहीं आने देंगे.

बहरआल निगम के अधिकारियों की ओर से किए गए नए परिसीमन में रही खामियों का यह पहला मामला नहीं है. शहर की कई ऐसी कॉलानियां भी हैं जो पहले निगम के क्षेत्र में ही आती थी लेकिन नए परिसीमन में उन्हे निगम क्षेत्र से बाहर कर दिया गया है. ऐसे में अगर समय रहते परिसीमन में रही खामियों को दूर नहीं किया गया तो लोगों का यह विरोध बढ़ता जाएगा. जिसका सीधा असर निगम के चुनाव में भी देखने को मिल सकता है.