close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

राजस्थान: समर्थन मूल्य पर खरीद की प्रक्रिया कल से होगी शुरू, खोजे जाएंगे 319 केंद्र

सहकारिता मंत्री उदयलाल आंजना ने बताया कि केन्द्र सरकार को मूंग की 3 लाख मीट्रिक टन, उड़द 96 हजार, सोयाबीन 3.54 लाख और मूंगफली 3.07 लाख मीट्रिक टन की खरीद के लक्ष्य भेजे गए है.

राजस्थान: समर्थन मूल्य पर खरीद की प्रक्रिया कल से होगी शुरू, खोजे जाएंगे 319 केंद्र
प्रतीकात्मक तस्वीर

जयपुर: गहलोत सरकार ने किसानों को बड़ी राहत दी है. मंगलवार से किसानों से समर्थन मूल्य पर खरीद की प्रक्रिया शुरू की जाएगी. इसके लिए किसान मूंग, उड़द, सोयाबीन और मूंगफली की खरीद के लिए मंगलवार से ऑनलाइन आवेदन कर सकते हैं. प्रदेश के 319 केन्द्रों पर मूंग, उड़द और सोयाबीन की 1 नवम्बर से और 7 नवम्बर से मूंगफली खरीद होगी. 

मूंग के लिए 150, उड़द के लिए 60, मूंगफली के 72 और सोयबीन के लिए 37 खरीद केन्द्र चिह्नित किए गए हैं. पिछले साल की तुलना में इस वर्ष 19 खरीद केन्द्र अधिक खोले गए हैं. किसानों को किसी प्रकार की असुविधा नहीं हो इसके लिए ऑनलाइन पंजीकरण की व्यवस्था ई-मित्र और खरीद केन्द्रों पर सुबह 9 बजे से शाम 7 बजे तक की गई है. किसान निर्धारित शुल्क देकर पंजीयन करा सकता है.

सहकारिता मंत्री उदयलाल आंजना ने बताया कि केन्द्र सरकार को मूंग की 3 लाख मीट्रिक टन, उड़द 96 हजार, सोयाबीन 3.54 लाख और मूंगफली 3.07 लाख मीट्रिक टन की खरीद के लक्ष्य भेजे गए है. केन्द्र से अनुमति मिलते ही खरीद शुरू की जाएगी. पंजीकरण के अभाव में किसानों से समर्थन मूल्य पर खरीद संभव नहीं होगी.

सरकार ने मूंग के लिए 7,050 रुपये और उड़द के लिए 5,700 रुपये, मूंगफली के लिए 5,090 रुपये, सोयाबीन के लिए 3,710 रुपये प्रति क्विंटल समर्थन मूल्य घोषित किया है. किसानों को अपनी उपज बेचने में किसी प्रकार की परेशानी न हो इसके लिए खरीद केन्द्रों पर आवश्यकतानुसार तौल-कांटें लगाए जाएंगे. इसके साथ ही पर्याप्त मात्रा में बारदाना उपलब्ध कराया जाएगा.

राजफैड की प्रबंध निदेशक सुषमा अरोड़ा ने बताया कि पंजीकरण के दौरान भामाशाह कार्ड नम्बर, खसरा गिरदावरी और बैंक पासबुक देनी होगी. भामाशाह कार्ड नहीं होने की स्थिति में ई-मित्र पर तत्काल ही भामाशाह के लिए एनरोलमेंट किया जाएगा और एनरोलमेंट नम्बर से ऑनलाइन पंजीकरण की प्रक्रिया पूरी हो सकेगी. जिसे किसान द्वारा बिना गिरदावरी के अपना पंजीयन करवाया जाएगा, उसका पंजीयन समर्थन मूल्य पर खरीद के लिये मान्य नहीं होगा. किसान पंजीयन कराते समय यह सुनिश्चित कर ले कि पंजीकृत मोबाईल नम्बर, आधार कार्ड से लिंक हो तथा प्रचलित बैंक खाता संख्या भामशाह कार्ड से लिंक हो ताकि ऑनलाइन भुगतान के समय किसी प्रकार की परेशानी किसान को नहीं हो.