close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

राजस्थान: शिक्षकों के तबादले के बाद फूटा छात्रों गुस्सा, प्रदर्शन कर सड़क को किया जाम

सीकर में अजीतगढ़ थाना क्षेत्र के गांव दिवराला के राजकीय आदर्श उच्च माध्यमिक विद्यालय में कार्यरत 4 शिक्षकों का दूसरी स्कूलों में स्थानांतरण हो जाने के चलते छात्रों ने प्रदर्शन किया.

राजस्थान: शिक्षकों के तबादले के बाद फूटा छात्रों गुस्सा, प्रदर्शन कर सड़क को किया जाम
फाइल फोटो

जयपुर: प्रदेश में पिछले दिनों हुए बड़े स्तर पर शिक्षकों के तबादले के बाद कई स्कूलों के छात्र विरोध प्रदर्शन के लिए सड़कों पर उतर आए हैं. छात्रों और अभिभावकों ने सरकार के इस फैसले के खिलाफ कई स्कूलों पर ताले जड़े. सीकर के दिवराला में 4 शिक्षकों के तबादले के विरोध में जहां सड़क जाम किया गया, तो वहीं जालोर कलेक्ट्रेट के बाहर छात्रों ने गांधीवादी तरीके से विरोध जताया.

सीकर में अजीतगढ़ थाना क्षेत्र के गांव दिवराला के राजकीय आदर्श उच्च माध्यमिक विद्यालय में कार्यरत 4 शिक्षकों का दूसरी स्कूलों में स्थानांतरण हो जाने के चलते छात्रों ने प्रदर्शन किया. गुरुवार को छात्र-छात्राओं और ग्रामीणों ने शिक्षकों के स्थानांतरण को रद्द करने की मांग को लेकर, दिवराला के बालाजी बस स्टैंड पर मार्ग को आधे घंटे जाम किया. जिसकी वजह से वाहनों की लंबी-लंबी लाइनें लग गई.

पुलिस प्रशासन को संभालने पड़े हालात
जानकारी के अनुसार सूचना मिलते ही अजीतगढ़ पुलिस मौके पर पहुंची और स्कूल प्रशासन को समझाकर जाम खुलवाया. दरअसल, कार्यरत शिक्षक राम सिंह, गजानंद शर्मा, रमेश कुमार, कृष्ण कुमार का स्थानांतरण हो गया है. जिससे नाराज छात्रों ने कक्षाओं का बहिष्कार किया गया है. 

जिस कारण गुरुवार की सुबह स्कूल खुलते ही छात्र छात्राओं ने विद्यालय की कक्षाओं का बहिष्कार करते हुए एकत्र होकर दिवराला गांव के बालाजी स्टैंड पर आकर अजीतगढ़ श्रीमाधोपुर सड़क मार्ग पर जाम लगा दिया. जिस कारण यातायात व्यवस्था बाधित हुई. सूचना पर पहुंचे अजीतगढ़ थाना प्रभारी सवाई सिंह, एएसआई मूलाराम पुलिस जाब्ते के साथ विद्यालय प्रशासन की साथ छात्र छात्राओं से समझाईस की लेकिन छात्र छात्राओं ने जाम नहीं खोला लेकिन पुलिस और विद्यालय प्रशासन के पहुंत समझाने बाद छात्र छात्राओं ने जाम खोल दिया.

अजीतगढ़ थाना प्रभारी सवाई सिंह और विद्यालय प्रशासन ने समझाइश कर छात्र-छात्राओं को क्लासों में बिठाया और ताला खुलवाया. छात्र-छात्राओं ने चेतावनी दी कि अगर स्थानांतरण रद्द नहीं होगा तो वो फिर से आंदोलन करेंगे. इसके बाद स्कूल प्रशासन और पुलिस ने समझाइश कर ताला खुलवाया. फिलहाल, तो पुलिस ने हलातों को संभाल लिया है लेकिन शिक्षकों के तबादलों के बाद छात्रों का गुस्सा लगातार जारी है.