close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

राजस्थान: शांति और समृद्धि को लेकर 27 सितंबर से शुरू होगा शिखर सम्मेलन, राजनेता करेंगे शिरकत

20 से अधिक सांसद और 40 से अधिक विधायक भी शामिल होंगे. इसके साथ ही सुप्रसिद्ध गायक अनूप जलोटा के साथ कई नेता, अभिनेता, न्यायधीश ,नामचीन चिकित्सक, समाजसेवी और शिक्षाविद इस सम्मेलन में भाग लेंगे.

राजस्थान: शांति और समृद्धि को लेकर 27 सितंबर से शुरू होगा शिखर सम्मेलन, राजनेता करेंगे शिरकत
27 सितंबर से आयोजित हो रहे इस सम्मेलन में एक्सपो का भी आयोजन किया जाएगा.

सिरोही: प्रजापति ब्रह्मा कुमारी ईश्वरीय विश्वविद्यालय की ओर से सिरोही जिले के आबूरोड़ स्थित ब्रह्माकुमारी संस्थान के अंतरराष्ट्रीय मुख्यालय शांतिवन में आगामी 27 सितंबर से 1 अक्टूबर तक अध्यात्मिकता द्वारा एकता शांति और समृद्धि विषय पर वैशेषिक शिखर सम्मेलन का आयोजन किया जाएगा.

ये रहेगी कार्यक्रम की रूपरेखा
जयपुर में एक निजी होटल में प्रेस वार्ता में जानकारी देते हुए कार्यकारी सचिव ब्रह्मकुमार मृत्युंजय ने बताया कि इस सम्मेलन का उद्घाटन 27 सितंबर को भारत के उपराष्ट्रपति वेंकैया नायडू, ब्रह्माकुमारी संस्था की मुख्य प्रशासक दादी जानकी, राजस्थान के राज्यपाल कलराज मिश्र और राजयोगिनी दादी रतन मोहिनी के द्वारा किया जाएगा. सम्मेलन में अंतरराष्ट्रीय कलाकारों की प्रस्तुतियां भी होंगी. जिसमें देशी कलाकारों के साथ ही चाइना, रशिया, नेपाल और जापान के कलाकार अपनी-अपनी प्रस्तुतियां देंगे. वहीं कार्यक्रम का समापन 1 अक्टूबर को लोकसभा स्पीकर ओम बिड़ला करेंगे.

कई गणमान्य लोग होंगे शामिल
पांच दिवसीय अंतरराष्ट्रीय सम्मेलन में केंद्रीय मानव संसाधन विकास मंत्री डॉ. रमेश पोखरियाल निशंक, न्याय कानून मंत्री रविशंकर प्रसाद, अल्पसंख्यक मंत्री मुख्तार अब्बास नकवी समेत कई केंद्रीय मंत्री शामिल होंगे. इसके अलावा इस 20 से अधिक सांसद और 40 से अधिक विधायक भी शामिल होंगे. इसके साथ ही सुप्रसिद्ध गायक अनूप जलोटा के साथ कई नेता, अभिनेता, न्यायधीश ,नामचीन चिकित्सक, समाजसेवी और शिक्षाविद इस सम्मेलन में भाग लेंगे.

कार्यक्रम की तैयारियां जोरों पर
बता दें कि 27 सितंबर से आयोजित हो रहे इस सम्मेलन में एक्सपो का भी आयोजन किया जाएगा. जिसमें विश्व की संस्कृतियों का संगम देखने को मिलेगा. इसके अलावा विश्व शांति और एकता पर मंथन किया जाएगा. जो कि लोगों के आकर्षण का केंद्र रहेगा. कार्यक्रम को लेकर आयोजकों की ओर से जोरों-शोरों से तैयारियां की जा रही हैं. बड़ी संख्या में लोगों के पहुंचने की संभावना को लेकर व्यवस्थाएं भी की गई हैं. साथ ही उपराष्ट्रपति सहित कई गणमान्यों के स्वागत के लिए भी विशेष तैयारियां की जा रही हैं.