close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

राजस्थान: त्रिपुरा सुन्दरी मंदिर में कई राजनेताओं की मनोकामनाएं हुई हैं पूरी, लगा भक्तों का तांता

मां के दरबार में राजनीति यज्ञ और विजयश्री हवन करवाया जाता है. माता के दरबार में हाजिरी लगाने से कई राजनीति के दिग्गजों की किस्मत चमक चुकी है.

राजस्थान: त्रिपुरा सुन्दरी मंदिर में कई राजनेताओं की मनोकामनाएं हुई हैं पूरी, लगा भक्तों का तांता
इस शक्तिपीठ के प्रति न सिर्फ स्थानीय श्रद्धालुओं बल्कि कई विशिष्ट-अतिविशिष्टजनों की आस्थाएं जुड़ी हुई हैं.

बांसवाड़ा, अजय ओझा: जिले में त्रिपुरा सुन्दरी मंदिर, आस्था का ऐसा धाम है जहां भक्ति का सैलाब रहता है. जहां मन्नातों की मुरादें रहती हैं. जहां की फिज़ाओं में सुकून है. जहां इत्मिनान है, जहां पापों का हरण होता है. त्रिपुरा सुन्दरी मंदिर आस्था का वो धाम है, जहां देश के बड़े से बड़े ओहदार अपने शीश माता के चरणों में रखते हैं. 

इस शक्तिपीठ के प्रति न सिर्फ स्थानीय श्रद्धालुओं बल्कि कई विशिष्ट-अतिविशिष्टजनों की आस्थाएं जुड़ी हुई हैं. राजस्थान, मध्यप्रदेश और गुजरात समेत पूरे देश के राजनीति के दिग्गज अपनी मन्नतों की झोली यहां फैलाते हैं, और देवी से आर्शीवाद लेते हैं. हर वक्त मंदिर में भक्तों तांता लगा रहता है, मां के दरबार में राष्ट्रपति से लेकर सरपंच तक सभी अपनी मुरादों की झोली फैला चुके हैं. 

मां के दरबार में राजनीति यज्ञ और विजयश्री हवन करवाया जाता है. माता के दरबार में हाजिरी लगाने से कई राजनीति के दिग्गजों की किस्मत चमक चुकी है. यहां के पुरोहित बताते हैं कि इस प्राचीन मंदिर में देवी की सिंह पर सवार अष्टादश भुजा वाली विशाल प्रतिमा है. जिसे श्रद्धालु त्रिपुरा सुंदरी, तरतई माता और त्रिपुरा महालक्ष्मी के नाम से बुलाते हैं. मवर्णा विशाल पाषाण प्रतिमा का ओज कुछ खास ही है, वहीं देवी के चरणों के नीचे श्री यंत्र अंकित होने की वजह से इसका विशेष महत्त्व है, जिस वजह से यहां पर राजनेता अपनी मनोकामना पूरी करने के लिए आते हैं, और अपनी राजनीति विजय के लिए मंदिर में विजयश्री यज्ञ करवाते हैं. मां के आशीर्वाद के बाद कई नेता अपने बड़े-बड़े मुकाम पर पहुंच चुके हैं.

देश के प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी, पूर्व उपराष्टपति स्वं भैरोसिंह शेखावत, गृह मंत्री अमित शाह, रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह, प्रकाश जावडेकर, हेमा मालिनी, पूर्व मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे, प्रदेश अध्यक्ष सतिश पुनिया, ओम माथुर, गुलाबचंद कटारीया समेत कई बीजेपी के दिग्गज नेता और मंत्री माता के मंदिर में धोक लगा चुके हैं, इसके अलावा पूर्व राष्ट्रपति प्रतिभा पाटिल, पूर्व राज्यपाल कल्याण सिंह, राजस्थान के राज्यपाल कलराज मिश्र, पंजाब के राज्यपाल वीपी सिंह, आरएसएस प्रमुख मोहन भागवत, योग गुरू बाबा रामदेव समेत कई दिग्गज माता के दरबार में धोक लगा चुके हैं. 

तो कांग्रेस के दिग्गज भी माता के दरबार में हाज़िरी लगा चुके हैं. पूर्व मुख्यमंत्री स्वं हरिदेव जोशी की आस्था मां त्रिपुरा सुंदरी में बहुत थी, वहीं मुख्यमंत्री अशोक गहलोत, उपमुख्यमंत्री सचिन पायलट, सीपी जोशी, महेन्द्रजीत मालवीया, अर्जुन बामनीया समेत कई कांग्रेस के पदाधिकारी और मंत्री माता के दरबार में धोक लगा चुके हैं. मान्यता माता के दरबार में आने वाला की झोली कभी खाली नहीं जाती है. माता रानी हर किसी की मनोकामना पूरी करती हैं, यही वजह है कि माता के मंदिर में गरीब से लेकर अमीर तक शीश झुकाने आते हैं, और हाजिरी लगाकर माता देवी से आर्शीवाद लेता है.

--मुज़म्मिल अय्यूब, न्यूज डेस्क