25 मार्च को अस्थाई मंदिर में शिफ्ट होंगे रामलला, Coronavirus को देखते हुए किए गए ये बदलाव

कोरोना वायरस के संक्रमण से सावधानी रखते हुए शास्त्रीय परंपरा से पूजन आरंभ किया जाएगा. पहले पूजन के लिए बुजुर्ग विद्वान् ब्राह्मणों को बुलाया गया था, लेकिन अब राम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट ने Coronavirus के संक्रमण को देखते हुए निर्णय बदल दिया है. ये पूजन अब युवा ब्राह्मण विद्वानों द्वारा किया जाएगा. 

25 मार्च को अस्थाई मंदिर में शिफ्ट होंगे रामलला,  Coronavirus को देखते हुए किए गए ये बदलाव
फाइल फोटो

अयोध्या: अयोध्या राम जन्मभूमि में रामलला को नए अस्थाई मंदिर में शिफ्ट करने के लिए आज 23 मार्च से भूमि शुद्धिकरण, चेतना जागरण व भूमि पूजन युवा ब्राह्मण विद्वानों द्वारा शुभ मुहूर्त में प्रारंभ कर दिया जायेगा. इसके लिए काशी, प्रयागराज, दिल्ली व अयोध्या के 15 ब्राह्मण कारसेवकपुरम पहुंच गए हैं. 

बता दें कि कोरोना वायरस के संक्रमण से सावधानी रखते हुए शास्त्रीय परंपरा से पूजन आरंभ किया जाएगा. पहले पूजन के लिए बुजुर्ग विद्वान् ब्राह्मणों को बुलाया गया था, लेकिन अब राम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट ने Coronavirus के संक्रमण को देखते हुए निर्णय बदल दिया है. ये पूजन अब युवा ब्राह्मण विद्वानों द्वारा किया जाएगा. 

ये भी पढें- नोएडा में कोरोना वायरस के मरीजों की संख्या बढ़कर हुई 8, दो नए मामले आए सामने

श्री राम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट के महामंत्री चम्पत राय ने कारसेवकपुरम में कहा की कोरोना वायरस के संक्रमण से सावधानी रखते हुए राम जन्मभूमि पर गर्भगृह और नए अस्थाई मंदिर की भूमि पूजन की शुरुवात ब्रह्म मुहूर्त के शुभ मुहूर्त में शास्त्रीय रीति से आरंभ हो जाएगी. जो 27 मार्च तक चलेगी. 25 मार्च की शुभ ब्रह्म मुहूर्त में रामलला को गर्भगृह टेंट से निकालकर अस्थाई मंदिर में विराजमान किया जायेगा. 

रामलला के नए अस्थाई मंदिर में शिफ्टिंग के समय मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के शामिल होने पर संसय बना हुआ है. Coronavirus के संक्रमण से प्रदेश की हालात को  देखते हुए 24 मार्च की रात्रि में निर्णय लिया जा सकेगा. चम्पत राय का कहना है की मुख्यमंत्री को करोड़ों लोगों की सुरक्षा का दायित्व हैं और उन्हें पूरा प्रदेश संभालना है. ऐसे में जैसे हालात होंगे मुख्यमंत्री वैसा ही निर्णय लेंगे. 

रामलला के शिफ्टिंग उत्सव में कोरोना वायरस के संक्रमण की सावधानियों का ध्यान रखते हुए पांच विशेष लोग ही पूजन कार्यक्रम में शामिल होंगे. राम जन्मभूमि  में दो स्थानों पर पूजन प्रारम्भ किया जायेगा. पूजन पूरे विधिविधान से किया जायेगा. वहीं नए अस्थाई मंदिर में देवताओं का आवाहन, चेतना जागरण पूजन के साथ भूमि पूजन आरंभ होगा. जिसमे दोनों स्थान पर 7-7 ब्राह्मण पूजन करेंगे.

गौरतलब है कि 22 मार्च आज से रामलला का उत्सव प्रारंभ होना था. लेकिन पीएम नरेंद्र मोदी के आवाहन पर जनता कर्फ्यू को देखते हुए एक दिन के लिए भूमि पूजन कार्यक्रम को टाल दिया गया था.  23 मार्च को आरंभ होने वाले पूजन के समय राम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट के अध्यक्ष महंत नृत्यगोपाल दास, महमंत्री चम्पत राय, ट्रस्टी राजा अयोध्या विमलेंद्र मोहन प्रताप मिश्र , डॉ अनिल मिश्र व् जिलाधिकारी अनुज झा ही शामिल हो सकेंगे. उसी तरह 25 मार्च रामलला को नए अस्थाई मंदिर में शिफ्ट करते समय भी कुछ महत्वपूर्ण लोग ही शामिल हो सकेंगे.

Watch LIVE TV-