close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

RCA Election: डूडी का सरकार पर हमला, अतिरिक्त महाधिवक्ता की भूमिका पर उठाए सवाल

डूडी ने कहा कि अदालत के समय में जब इन अतिरिक्त महाधिवक्ताओं को कोर्ट में होना चाहिए था यह किसी निजी संस्था के चुनाव करवाने के लिए किस हैसियत से यहां बैठे हुए हैं.

RCA Election: डूडी का सरकार पर हमला, अतिरिक्त महाधिवक्ता की भूमिका पर उठाए सवाल

जयपुर: कांग्रेस नेता और नागौर जिला क्रिकेट एसोसिएशन के अध्यक्ष रामेश्वर डूडी के तेवर राजस्थान क्रिकेट एसोसिएशन आरसीए के चुनावों को लेकर और ज्यादा तीखे हो गए हैं. इस बार डूडी ने सीधी तौर पर सरकार पर हमला बोलते हुए कहा कि आरसीए चुनावों में सुनवाई के दौरान सरकार के 2 अतिरिक्त महाधिवक्ताओं की मौजूदगी समझ से परे हैं. 

डूडी ने कहा कि अदालत के समय में जब इन अतिरिक्त महाधिवक्ताओं को कोर्ट में होना चाहिए था यह किसी निजी संस्था के चुनाव करवाने के लिए किस हैसियत से यहां बैठे हुए हैं. इससे जाहिर होता है कि सरकार का आरसीए के चुनावों में सीधा हस्तक्षेप है और वो इस बात को आगे तक उठाएंगे.

नागौर जिला क्रिकेट संघ की आपत्तियों पर सुनवाई के दौरान सोमवार को आरसीए अकादमी में आए डूडी ने कहा कि सभी जिला क्रिकेट संघों को तय करना है कि चुनाव में कौन से उम्मीदवार उतरेंगे. उन्होंने स्पष्ट रूप से इस बात के संकेत दिए कि वह किसी भी सूरत में पीछे नहीं हटेंगे. उन्होंने यहां तक कहा कि हो सकता है वह चुनाव जरूर लड़े चाहे सामने कोई भी उम्मीदवार क्यों न हो.

जोशी पर जमकर बोला हमला
डूडी के निशाने पर मुख्यतः आरसीए के अध्यक्ष सीपी जोशी थे. उन्होंने जोशी के लिए यहां तक कह डाला कि क्रिकेट के मामले में सीपी जोशी की सोच सबके सामने उजागर हुई है यह उनका ओछापन दर्शाता है. हालांकि, उन्होंने यह भी कहा कि यह मामला क्रिकेट का है ना कि कांग्रेस पार्टी का सीपी जोशी भी कांग्रेस के कार्यकर्ता हैं और मैं भी. आरसीए अध्यक्ष पद के लिए निर्विरोध चुनाव के बारे में पूछने पर डूडी ने कहा कि यह सवाल सीपी जोशी से पूछा जाए तो ज्यादा अच्छा रहेगा. डूडी ने इन सवालों को टाल दिया.

आज मतदाता सूची पर सुनवाई के दौरान दिन भर जिला संघों ने आपत्तियों पर जवाब दिया. विभिन्न जिला संघों के सचिव और पदाधिकारी और आरसीए में नजर आएं. करीब एक दर्जन से ज्यादा मतदाता सूची पर सुनवाई हुई. इनमें टोंक, बूंदी गंगानगर, नागौर, जोधपुर, राजसमंद, भरतपुर, सवाई माधोपुर, अलवर पर आपत्तियों की सुनवाई पूरी कर ली गई. जबकि कल 7 जिला संघों पर अपत्य सुनी गई थी. अब सबसे बड़ी निगाहें मतदाता सूची के जारी होने पर टिकी हुई है. इसी मतदाता सूची के जारी होने के बाद तय होगा कि आरसीए में वैभव गहलोत और रामेश्वर डूडी की दावेदारी हो सकेगी या नहीं जोशी गुट और डूडी गुट के वोटर्स की ताकत का पता भी मतदाता सूची के जारी होने के बाद ही लगाया जा सकेगा.