close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

राजस्थान: पायल जांगिड़ को न्यूयार्क में सम्मान मिलने के बाद मरुधरा में खुशी की लहर

Payal Jangid Awarded in New York: बता दें कि राजस्थान के अलवर के हींसला गांव की रहने वाली पायल जांगिड का उसके घर वाले बचपन में शादी करना चाहते थे, लेकिन मासूम पायल जांगिड ने घरवालों से बगावत कर शादी करने से इंकार कर दिया था.

राजस्थान: पायल जांगिड़ को न्यूयार्क में सम्मान मिलने के बाद मरुधरा में खुशी की लहर
बाल अधिकारों के खिलाफ लड़ाई लड़ने वाली पायल जांगिड़. (फोटो साभार: ANI)

जुगल किशोर गांधी, अलवर: राजस्थान(Rajasthan) के अलवर जिले (Alwar)के थानागाजी कस्बे में बाल विवाह(Child Marriage) और बाल श्रम(Child labour) के खिलाफ आवाज उठाने वाली 16 वर्षीय पायल जांगिड़ को न्यूयॉर्क में बिल एंड मेलिंडा गेट्स फाउंडेशन(Bill & Melinda Gates Foundation) ने सम्मानित किया है,

सबसे बड़ी बात ये है प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी(Narendra Modi) को भी स्वच्छ भारत अभियान(Clean India Mission)के लिए ग्लोबल गोलकीपर पुरुस्कार से सम्मानित किया गया था उनके बाद यहां दूसरे भारतीय के रूप में अलवर जिले की पायल को सम्मानित किया गया.

इसकी जानकारी मिलने के बाद परिजनों और क्षेत्र के लोगों में खुशी की कहर है. पायल ने कभी कम उम्र में होने वाली अपनी शादी के खिलाफ आवाज उठाई थी. जिसके बाद हमेशा बच्चियों को स्वानलम्ब देने का काम करने वाली पायल ने घर घर जाकर अभिभावकों को छोटी उम्र में बच्चियों की शादी नही करने के लिए जागरूक किया. इस दौरान उसने बाल श्रम के खिलाफ भी आवाज उठाई. बाल विवाह का विरोध करने वाली पायल साल 2015 में केवल 12 साल की थीं. तब उन्हें तत्कालीन अमेरिका के राष्ट्रपति बराक ओबामा से मिलने का मौका मिला.

बाल विवाद के खिलाफ आंदोलन में मिली सफलता
बच्चों के अधिकारों के लिए लड़ने वाली पायल के प्रयासों का असर भी देखा जा रहा है. थानागाजी के हिंसला गांव में बाल विवाह प्रथा को पूर्ण तरीके से खत्म करने में सफलता हासिल की गई है. सम्मानित होने की जानकारी मेलिंडा गेट्स फाउंडेशन से सम्मानित होने की जानकारी मिलने के बाद उनके पिता पप्पू जांगिड़ और स्थानीय लोगो ने हर्ष जताया है.

पीएम मोदी को भी मिला था सम्मान
आपको बता दें कि न्यूयॉर्क बिल एंड मेलिंडा गेट्स फाउंडेशन ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को 'स्वच्छ भारत अभियान' के लिए 'ग्लोबल गोलकीपर पुरस्कार' से सम्मानित किया है. पीएम मोदी ने मंगलवार को बिल गेट्स से यह सम्मान प्राप्त किया. इस मौके पर पीएम मोदी के अलावा एक और भारतीय को सम्मानित किया गया और वो थी राजस्थान की पायल जांगिड़. पायल को राजस्थान में बाल श्रम और बाल विवाह को समाप्त करने के अभियान के लिए 'चेंजमेकर पुरस्कार' मिला.

कैलाश सत्यार्थी ने दी प्रतिक्रिया
पायल को पुरस्कार मिलने के बाद नोबेल पुरस्कार विजेता कैलाश सत्यार्थी ने इससे गौरवान्वित होने की बात कही थी. उन्होंने कहा था कि वह उन युवा महिलाओं में से एक हैं जो भारत और अन्य जगहों पर बच्चों के शोषण के खिलाफ सबसे आगे हैं. उसने अपनी शादी से मना करने का साहस दिखाया. साथ ही गांव और आस-पास के गांवों में अन्य बच्चों के विवाह के खिलाफ भी उसने आवाज उठाई.'

बगावत बन गया मिसाल
बता दें कि राजस्थान के अलवर के हींसला गांव की रहने वाली पायल जांगिड का उसके घर वाले बचपन में शादी करना चाहते थे, लेकिन मासूम पायल जांगिड ने घरवालों से बगावत कर शादी करने से इंकार कर दिया था. इस एक कदम के साथ ही पायल जांगिड बाल अधिकारों के लिए संघर्ष करने वाली लड़की की प्रतीक बन गई. पायल जांगिड ने जल्द ही अपने आस-पास के गांवों में भी बाल विवाह का विरोध किया.