close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

महाराष्ट्र: नितेश राणे की उम्मीदवारी को लेकर बीजेपी-शिवसेना के गठबंधन में दरार

दोनों दलों के बयान देखें तो ऐसे लग रहा है कि एक जिले में बीजेपी और शिवसेना का गठबंधन लगभग टूट-सा गया है.

महाराष्ट्र: नितेश राणे की उम्मीदवारी को लेकर बीजेपी-शिवसेना के गठबंधन में दरार
शिवसेना के विरोधी नारायण राणे के बेटे को टिकट देने से यह खटास बढ़ गई है. (फाइल फोटो)

सिंधुदुर्ग: महाराष्ट्र विधानसभा चुनाव (Maharashtra Assembly Elections 2019) में शिवसेना-बीजेपी गठबंधन (BJP-Shiv Sena alliance) मजबूती से खड़ा दिख रहा है, लेकिन सिंधुदुर्ग जिले में नारायण राणे (Narayan Rane) के बेटे नितेश राणे (Nitesh Rane) की उम्मीदवारी से इस गठबंधन में दरार आ गई है. दोनों दलों के बयान देखें तो ऐसे लग रहा है कि जिले में बीजेपी और शिवसेना का गठबंधन लगभग टूट-सा गया है. यहां बीजेपी ने नारायण राणे के बेटे नितेश राणे को कणकवली विधानसभा सीट से टिकट दिया है. शिवसेना के विरोधी नारायण राणे के बेटे को टिकट देने से यह खटास बढ़ गई है. विरोध में शिवसेना ने सतीश सांवत को अपना उम्मीदवार बनाया है.

सतीश सावंत कभी नारायण राणे की पार्टी महाराष्ट्र स्वाभिमान पार्टी के कार्यकर्ता थे. जो चुनाव के ऐन मौके पर शिवसेना में शामिल हुए हैं. यहां मुकाबला शिवसेना और नितेश राणे के बीच है, लेकिन सच्चाई यह भी है कि नितेश राणे अब बीजेपी के उम्मीदवार हैं. ऐसे में गठबंधन धर्म का पालन नहीं होने से सिंधुदुर्ग जिला बीजेपी इकाई ने नाराजगी जताते हुए जिले की अन्य दो विधानसभा सीटों पर शिवसेना के खिलाफ निर्दलीय उम्मीदवार का समर्थन किया है.

सिंधुदुर्ग जिले में विधानसभा की तीन सीटें- कणकवली, मालवण-कुडाल और सावंतवाडी आती हैं. इनमें से गठबंधन में मालवण-कुडाल और सावंतवाडी सीट शिवसेना और कणकवली सीट बीजेपी की खाते में आई है. इसके बावजूद कणकवली में राणे के बेटे को टिकट देने के कारन शिवसेना ने अपना उम्मीदवार यहां से उतारा है. वहीं कणकवली में बीजेपी का बागी नेता संदेश पारकर भी मैदान में है.

सिंधुदुर्ग में कणकवली सीट पर शिवसेना का उम्मीदवार देने के मसले पर पार्टी प्रमुख उद्धव ठाकरे ने कहा है कि जहां अन्याय होगा वहां शिवसेना खड़ी दिखेगी. ऐसे में कणकवली में शिवसेना और बीजेपी के बीच मुकाबला तय लग रहा है.

उधर, बीजेपी जिलाअध्यक्ष प्रमोज जार ने इस पर नाराजगी जताते हुए कहा कि शिवसेना गठबंधन धर्म का पालन नहीं कर रही है.

नारायण राणे की महाराष्ट्र स्वाभिमान पार्टी ने सिंधुदुर्ग की मालवण और सावंतवाडी सीट पर शिवसेना के खिलाफ उपने उम्मीदवार उतारे हैं. मालवण-कुडाल में शिवसेना उम्मीदवार वैभव नाईक के खिलाफ निईलीय उम्मीदवार रणजीत देसाई मैदान में है, जिसे बीजेपी-महाराष्ट्र स्वाभिमान पार्टी का समर्थन हासिल है. तो वहीं सावंतवाडी में शिवसेना उम्मीदवार दीपक केसरकर के खिलाफ निर्दलीय उम्मीदवार राजन तेली खडे हैं. तेली को भी बीजेपी और महाराष्ट्र स्वाभिमानी पार्टी ने समर्थन दिया है.

हैरानी की बात यह है कि पूरे महाराष्ट्र में साथ लडनेवाली शिवसेना-बीजेपी कोंकण के सिंधुदुर्ग जिले में एक दुसरे के खिलाफ खड़ी है. नारायण राणे के बीजेपी के साथ आने से सिंधुदुर्ग में मुख्य मुकाबला भी शिवसेना-बीजेपी के बीच ही दिख रहा है.

@सिंधुदुर्ग जिले की तीन सीटों के प्रमुख उम्मीदवार

#कणकवली विधानसभा सीट
1. नितेश राणे- बीजेपी
2. सतीश सावंत- शिवसेना
3. संदेश पारकर- बीजेपी के बागी

 #कुडाल-मालवण सीट
1. वैभव नाईक- शिवसेना
2. रणजित देसाई- निर्दलीय (महाराष्ट्र स्वाभिमान और बीजेपी का समर्थन )

#सावंतवाडी सीट
1. दीपक केसरकर- शिवसेना
2. राजन तेली- निर्दलीय (महाराष्ट्र स्वाभिमान और बीजेपी का समर्थन)
3. बबन सालगांवकर- एनसीपी