रोड एक्सीडेंट का वो केस जिसमें पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट आने के बाद मच गया हंगामा

यह मामला दुर्गा पूजा के नवमी की रात को उत्तर 24 परगना में स्तिथ बीराटी मोड़ और सदर मोड़ के बीच, 20 वर्षीय देबांजन दास की मौत से जुड़ा है.

रोड एक्सीडेंट का वो केस जिसमें पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट आने के बाद मच गया हंगामा
(प्रतीकात्मक फोटो)

नई दिल्ली:  पश्चिम बंगाल (West Bengal) में उत्तर 24 परगना के एक मामले में पुलिस (police) के दावों पर सवाल खड़े हो गए हैं. दरअसल दुर्गा पूजा के नवमी की रात को उत्तर 24 परगना (north 24 Parganas) में स्तिथ बीराटी मोड़ और सदर मोड़ के बीच, 20 वर्षीय देबांजन दास की में मौत हुई थी. 

निम्ता थाने के पुलिस (police) ने अपने , FIR में ये दर्ज किया की देबांजन अपने गाड़ी का नियंत्रण खो बैठे और लोहे की खम्बे से टकराने से उनकी मौके पर मृत्यु हो गई.  उनको सागर मेडिकल कॉलेज ले जाया गया था जहां डॉक्टरों ने देबांजन को मृत घोषित कर दिया. 

आठ दिनों के बाद जब 16 अक्टूबर को पोस्ट मार्टम  (Post mortem) की रिपोर्ट आई तो पुलिस के दावे के मुताबिक दुर्घटना का यह मामला, हत्या (murder) के मामले में तब्दील हो गया. जी हाँ पोस्ट मोटरम रिपोर्ट में गोली लगने से मौत का कारण बताया गया. पोस्ट मार्टम रिपोर्ट के बाद हड़कंप मच गया.  

इस घटना के तुरंत बाद देबांजन के परिजनों को गाड़ी से एक बन्दूक की गोली मिली थी लेकिन पुलिस ने इस मामले में परिजनों की FIR तक दर्ज नहीं की थी और ना ही गाड़ी को फॉरेंसिक जांच के लिए भेजा. बांजन के पिता ने आरोप लगाया है कि तृषा सरकार और प्रिंस सिंह ने मिलकर उनके लड़के की हत्या की है.

कहीं यह मामला 'लव ट्रायंगल' तो नहीं, इस जांच में जुटी पुलिस ने जब तृषा सरकार से पूछताछ की तो उसने बताया की 8 अक्टूबर की रात को तृषा और देबांजन कोलकाता के साल्ट-लेक सेक्टर-5 स्थित डिस्को (DISCO) में अपने कुछ दोस्तों के साथ गए थे और रात को तक़रीबन 1:38 लौटते वक्त देबांजन ने तृषा को उसके घर ड्रॉप किया. तृषा ने बताया कि उस रात गाड़ी में उन्होंने वीडियो भी बनाए.

पुलिस ने जब प्रिंस सिंह के बारे में तृषा से पूछा गया तो तृषा ने कहा कि वह उसे नहीं जानती है. वही पुलिस को तृषा के दो फेस बुक प्रोफाइल मिले जिसमें एक में वह मृत देबांजन दास के साथ फ्रेंड्स लिस्ट में दिखी तो दूसरे प्रोफाइल में प्रिंस सिंह के साथ दिखी .

पुलिस अभी प्रिंस नमक इस लड़के के बारे में पता लगाने में जुटी हुई है और इस पूरी घटना को संजीदगी से तफ्दीश कर रही है , अभी तक इस मामले में किसी को गिरफ्तर नहीं कर पाई . लेकिन इस पूरी घटना में कुछ अन्य सुलझे तथ और प्रश्ना अभी भी पुलिस की नाकामियों को दिखा रहे है .