close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

लोकसभा चुनाव में बीजेपी की जीत पर RSS ने कहा, 'यह राष्ट्रीय शक्तियों की विजय है'

आरएसएस ने अपने बयान में कहा,‘एक बार फिर देश को स्थिर सरकार मिली है और यह करोड़ों भारतीयों का भाग्य है. यह राष्ट्रीय शक्तियों की विजय है.’

लोकसभा चुनाव में बीजेपी की जीत पर RSS ने कहा, 'यह राष्ट्रीय शक्तियों की विजय है'
आरएसएस के सरकार्यवाह भैयाजी जोशी ने कहा कि लोकतंत्र की इस विजय की यात्रा में जिन जिनका योगदान रहा, उन सभी का अभिनंदन. लोकतंत्र का आदर्श विश्व के सम्मुख एक बार पुनः प्रस्तुत हुआ है. (फाइल फोटो)

नई दिल्ली: राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) ने लोकसभा चुनाव में बीजेपी की प्रचंड जीत को ‘राष्ट्रीय शक्तियों की जीत’ करार दिया. संघ ने कहा कि निर्वाचन प्रक्रिया सम्पन्न होने के साथ ही समस्त कटुताएं समाप्त हों और विनम्रता के साथ व्यक्त जन भावनाओं का स्वागत हो .

आरएसएस के सरकार्यवाह भैयाजी जोशी ने अपने बयान में कहा,‘एक बार फिर देश को स्थिर सरकार मिली है और यह करोड़ों भारतीयों का भाग्य है. यह राष्ट्रीय शक्तियों की विजय है.’ उन्होंने कहा कि लोकतंत्र की इस विजय की यात्रा में जिन जिनका योगदान रहा, उन सभी का अभिनंदन. लोकतंत्र का आदर्श विश्व के सम्मुख एक बार पुनः प्रस्तुत हुआ है.

'विनम्रता के साथ व्यक्त जन भावनाओं का स्वागत हो'
आरएसएस के वरिष्ठ नेता ने कहा,‘हम विश्वास व्यक्त करते हैं कि नई सरकार जन सामान्य की भाव - भावनाओं के साथ ही इच्छा - आकांक्षाओं को भी पूर्ण करने में सफल सिद्ध होगी. निर्वाचन प्रक्रिया सम्पन्न होने के साथ ही समस्त कटुतायें समाप्त हों और विनम्रता के साथ व्यक्त जन भावनाओं का स्वागत हो .’

बता दें लोकसभा चुनाव के नतीजे बीजेपी के लिए एग्जिट पोल से भी बढ़ कर रहे हैं. यह तय हो गया है कि बीजेपी अपने दम पर एक फिर बहुमत हासिल करने जा रही है. दिल्ली स्थित बीजेपी मुख्यालय समेत देश भर में कार्यकर्ता पार्टी की इस जीत का जश्न मना रहे हैं. 

बीजेपी की इस जीत के बाद पार्टी अध्यक्ष अमित शाह ने ट्वीट कर कहा, 'यह परिणाम विपक्ष द्वारा किए गए दुष्प्रचार, झूठ, व्यक्तिगत आक्षेप और आधारहीन राजनीति के विरुद्ध भारत का जनादेश है.'

शाह ने कहा, 'आज का जनादेश यह भी दिखाता है कि भारत की जनता ने देश से जातिवाद, परिवारवाद और तुष्टिकरण को पूरी तरह से उखाड़ फेंककर विकासवाद और राष्ट्रवाद को चुना है.' भारत को नमन.