close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

यहां किताबों की नहीं साड़ियों की बनी है लाइब्रेरी; आइए, देखिए और घर ले जाइए...

आमतौर पर आप जब लाइब्रेरी का नाम सुनते हो तब आपको केवल पुस्तक की लाइब्रेरी का ख्याल आता होगा और इसके बारे में आप बहुत कुछ जानते भी होंगे लेकिन आज एक ऐसी लाइब्रेरी के बारे में हम आपको बताने जा रहे हैं जिसके बारे में जान कर आप आश्चर्यचकित रह जाएंगे. 

यहां किताबों की नहीं साड़ियों की बनी है लाइब्रेरी; आइए, देखिए और घर ले जाइए...

अहमदाबाद: आमतौर पर आप जब लाइब्रेरी का नाम सुनते हो तब आपको केवल पुस्तक की लाइब्रेरी का ख्याल आता होगा और इसके बारे में आप बहुत कुछ जानते भी होंगे लेकिन आज एक ऐसी लाइब्रेरी के बारे में हम आपको बताने जा रहे हैं जिसके बारे में जान कर आप आश्चर्यचकित रह जाएंगे. क्योंकि आपने इस पहले ऐसी लाइब्रेरी के बारे में पहले कभी नहीं सुना होगा. अहमदाबाद के वाडज इलाके में एक ऐसी लाइब्रेरी बनाई गई है जिसमे किताबों के बजाए महंगी-महंगी साड़ियां डिस्प्ले की गई है.

जिससे साडी लाइब्रेरी के तौर पर जाना जाता है. पिछले 9 साल से ग्राम्शी संस्था द्वारा इस साड़ी लाइब्रेरी को चलाया जा रहा है. इस लाइब्रेरी में स्लम इलाके की महिलाओं को बिना एक भी रुपए के मुफ्त में किराए पर साड़ी एवम चनिया-चोली दी जाती है.

शर्त केवल इतनी होती है की ड्राई क्लीन करवा कर इसे लौटानी होगी वही गाँव के बाहर से महिलाएं साड़ी लेने आती है उन्हें केवल 50 रुपए में 10 दिन के लिए किराए पर देते है. साड़ी लाइब्रेरी को शुरू करने के पीछे मात्रा एक उद्देश्य है की आर्थिक रूप से कमज़ोर महिलाओं को महंगी महंगी साड़ियां पहने की इच्छा पूरी हो पाए. 

आपको बता दें की इस साडी लाइब्रेरी में केवल महिलाओं के ही लिए नहीं बल्कि पुरुषों के लिए भी कपड़े किराए पर दिए जाते है. यहां 50 जितनी साड़ियां है जिनकी कीमत 250 से लेकर 18000 तक की कीमत है. इस साडी लाइब्रेरी से केवल आईडी प्रूफ के आधार पर साड़ी पहने को दी जाती है. इस साडी लाइब्रेरी का संचालन 50 जितनी महिलाओं द्वारा किया जा रहा है.   

इस साडी लाइब्रेरी का लाभ कई महिलाऐं ले रही है क्यों की इससे वे महिलाएं अपनी महंगी साडी पहने का शौख पूरा कर पा रही है और साथ ही तरह तरह के साड़ियों को पहनने का सपना पूरा कर पा रही हैं. किसी भी कार्यक्रम या त्यौहार के अनुरूप सुन्दर सुन्दर साड़ियाँ पहन कर पहन सकती है. ग्राम्शी संस्था और लेडिस सर्किल ग्रुप का ये अनोखा प्रयास है जिससे आर्थिक रूप से कमज़ोर महिलाएं के जीवन में एक मुस्कान देने का कार्य कर रहे है. 

इनपुट: अश्का जानी