BJP सांसद के दावे पर बोले संजय राउत, 'महाराष्ट्र के 40,000 करोड़ केंद्र को भेजना गद्दारी है'

बता दें हेगड़े ने दावा किया था कि केंद्र सरकार का 40 हजार करोड़ बचान के लिए फडणवीस ने सीएम पद की शपथ ली थी. 

BJP सांसद के दावे पर बोले संजय राउत, 'महाराष्ट्र के 40,000 करोड़ केंद्र को भेजना गद्दारी है'
शिवसेना सांसद संजय राउत (फाइल फोटो)

मुंबई: बीजेपी (bjp) सांसद अनंत कुमार हेगड़े (Anant Kumar Hegde) के बयान के बाद महाराष्ट्र (Maharashtra) की राजनीति में हंगामा मचा है. शिवसेना (Shiv Sena) ने कहा है कि 40000 करोड़ वापस केंद्र को भेजना महाराष्ट्र के साथ गद्दारी है. बता दें हेगड़े ने दावा किया था कि केंद्र सरकार का 40 हजार करोड़ बचान के लिए फडणवीस ने सीएम पद की शपथ ली थी. 

शिवसेना सांसद संजय राउत (Sanjay Raut) ने इस मामले पर फडणवीस पर निशाना साधा है. राउत ने ट्वीट कर कहा, 'BJP सांसद अनंत कुमार हेगड़े ने कहा है कि 80 घंटे के लिए मुख्यमंत्री बनकर देवेंद्र फडणवीस ने महाराष्ट्र के 40,000 करोड़ रुपये को केंद्र को दे दिया? यह महाराष्ट्र के साथ गद्दारी है.'

दूसरी तरफ फडणवीस ने हेगड़े के बयान को गलत बताया है. पूर्व मुख्यमंत्री फडणवीस ने कहा, 'यह बयान गलत है मैं इसे सिरे से नकारता हूं, बुलेट ट्रेन केंद्र के सहायता से तैयार हो रही है इसमें महाराष्ट्र सरकार की भूमिका सिर्फ भूमि अधिग्रहण तक सीमित है.'

फडणवीस ने कहा कि न केंद्र ने महाराष्ट्र से कोई पैसा मांगा न केंद्र को महाराष्ट्र ने कोई पैसा दिया. मेरे मुख्यमंत्री रहते या कार्यवाहक मुख्यमंत्री लेते ऐसा कोई फैसला मैंने नहीं लिया है. सरकार का वित्त विभाग करे इसकी जांच करके इसका सच जनता के सामने लाए. 

क्या कहा था हेगड़े ने?
उत्तर कन्नड़ में बोलते हुए अनंत हेगड़े ने कहा, 'आप सब जानते हैं हमारा आदमी महाराष्ट्र में 80 घंटों के लिए मुख्यमंत्री बना उसके बाद फडणवीस ने इस्तीफा दे दिया. उन्होंने यह ड्रामा क्यों किया? क्या वह नहीं जानते थे कि उनके पास बहुमत नहीं है, फिर भी वह मुख्यमंत्री बने. यह वह सवाल है जो हर कोई पूछ रहा है. 

अनंत कुमार हेगड़े ने आगे कहा, 'मुख्यमंत्री के नियंत्रण में केंद्र के 40 हजार करोड़ रुपये थे. वह जानते थे कि यदि कांग्रेस-एनसीपी और शिवसेना की सरकार सत्ता में आ जाती है तो वे विकास के बजाए रकम का दुरुपयोग करेंगे. इस वजह से यह पूरा ड्रामा करने का फैसला लिया गया. फडणवीस मुख्यमंत्री बने और 15 घंटे में केंद्र को 40 हजार करोड़ रुपये वापस कर दिए गए.'