close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

वसुंधरा राजे से प्रदेश अध्यक्ष पर नियुक्ति से पहले हुई थी मुलाकात: सतीश पूनिया

बीजेपी प्रदेशाध्यक्ष सतीश पूनिया ने जी मीडिया से खास बातचीत में पूर्व सीएम वसुंधरा राजे से संबंधित सवालों पर अपनी बेबाक राय रखी.

वसुंधरा राजे से प्रदेश अध्यक्ष पर नियुक्ति से पहले हुई थी मुलाकात: सतीश पूनिया
बीजेपी प्रदेश अध्यक्ष सतीश पूनिया.

जयपुर: बीजेपी प्रदेशाध्यक्ष सतीश पूनिया ने कार्यभार संभालने के बाद जी मीडिया से खास बातचीत की. इस दौरान पूनिया ने पूर्व सीएम वसुंधरा राजे से संबंधित सवालों पर अपनी बेबाक राय रखी. उन्होंने कहा कि अध्यक्ष पद ऐलान से पहले उनकी राजे से मुलाकात हुई थी.

उन्होंने वसुंधरा के आज के कार्यक्रम में गैर मौजूदगी पर भी अपनी राय रखी. उन्होंने कहा कि वसुंधरा राजे कुछ अनुष्ठान में वयस्त हैं. इस कारण वो नहीं आ सकीं. बातचीत के दौरान उन्होंने यह भी कहा कि मेरा नाम घोषित होने से पहले केंद्र ने उनसे भी चर्चा की होगी. मीडिया से बातचीत के दौरान पूनिया ने प्रदेश अध्यक्ष पद पर नियुक्ति के बाद मुख्यमंत्री और उपमुख्यमंत्री का भी संदेश आने की बात कही.

यह VIDEO देखें: जो भी हूं जनता की वजह के हूं, उसी के लिए सब कुछ न्योछावर: सतीश पूनिया

उन्होंने कहा कि मेरे लिए सम्मान का पहला कारक पार्टी कार्यकर्ता है.  मैं जो कुछ हूं वह पार्टी कार्यकर्ता के दम पर हूं. उन्होंने आज के कार्यक्रम में भी सभी कार्यकर्ताओं-नेताओं का सहयोग मिलने की बात भी कही. उन्होंने राजस्थान में बीजेपी का अभेद्य दुर्ग बनाने की कोशिश करने की बात कही है. उन्होंने यह स्वीकारा है कि अन्य प्रदेशों के मुकाबले राजस्थान में बीजेपी पीछे है. उन्होंने कहा कि उनकी मंशा बीजेपी को अजेय संगठन बनाने की है.

पूनिया ने कहा कि बीजेपी में सतत प्रक्रिया के तहत बदलाव होता है. उन्होंने नए कार्यकर्ताओं को संगठन में मौका मिलने की बात कही. उन्होंने पुराने नेताओं का सम्मान बरकरार रहने की बात कही. पूनिया ने कहा कि सभी को एकमुखी होकर काम करना समय की जरूरत है.

उन्होंने कहा कि आज देश में मोदी-शाह की जोड़ी में बीजेपी बढ़ रही है. जबकि कांग्रेस में दिखता है डिवीज़न.उन्होंने कहा कि दिल्ली और राजस्थान दोनों जगह कांग्रेस में मतभेद दिखता है. उन्होंने कहा, ''दिल्ली में सोनिया और राहुल गांधी और प्रदेश में भी मुख्यमंत्री और उप-मुख्यमंत्री के खेमे में कांग्रेस बंटी हुई है. 

वसुंधरा की कार्य ग्रहण कार्यक्रम में वसुंधरा राजे की गैर मौजूदगी पर पूनिया ने कहा कि इसकी घोषणा से पहले राजे से बात हुई थी. उनके जयपुर आने पर उनसे मुलाकात भी होगी.