close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

जयपुर: बारिश थमने के बाद बीमारियों ने दी दस्तक, चिकित्सा विभाग सतर्क

बारिश के बाद  स्वाइन फ्लू(Swine Flu), डेंगू(Dengue), स्क्रब टाइफस समेत कई बीमारियां अब अपना असर दिखा रही है.

जयपुर: बारिश थमने के बाद बीमारियों ने दी दस्तक, चिकित्सा विभाग सतर्क
प्रदेश को मौसमी बीमारियों ने पूरे 12 महीने अपनी जद में रखा. (प्रतीकात्मक फोटो)

जयपुर: वैसे तो बारिश की बूंदों ने जिंदगी को राहत और सांसों को सुकून दी है. लेकिन बदलते मौसम में बीमारियां भी दबे पांव दस्तक दे रही हैं. इस दौरान स्वाइन फ्लू(Swine Flu), डेंगू(Dengue), स्क्रब टाइफस समेत कई बीमारियां अब अपना असर दिखा रही है. इसके अलावा पशु जनित कांगो फीवर(Congo Fever)भी चिकित्सा विभाग के लिए बड़ा सिर दर्द बना हुआ है. 

बारिश के बाद जयपुर शहर के कई इलाकों से बहकर आई गंदगी और कचरा नदी में लंबे वक्त से जमा है. जिसके चलते पानी में मच्छरों के लाखों लार्वा विकसित होने की संभावना होती है. स्वाइन फ्लू हो या डेगूं, कमोबेश हर बीमारी में जयपुर पहले पायदान पर रहा है. 

जानिए पिछला साल का आंकड़ा
पिछले सालों के आंकड़ों पर गौर करे तो प्रदेश को मौसमी बीमारियों ने पूरे 12 महीने अपनी जद में रखा. इस दौरान स्वाइन फ़्लू हो या डेंगू हर बीमारी मौत लेकर लोगों टूटी. 

सच्चाई ये है कि अकेले स्वाइन फ्लू ने इस साल 208 जान ली. तो कांगो फीवर ने 2 मरीजों की जान लेकर चिकित्सा विभाग को चिंता में डाल दिया है.

प्रदेश के चिकित्सा मंत्री डॉ रघु शर्मा मौसमी बीमारियों की रोकथाम को लेकर काफी गंभीर है. स्वास्थ्य मंत्री शर्मा ने प्रदेशभर में अधिकारियों से वीसी के जरिए संवाद किया और फील्ड में एक्शन प्लान बनाकर काम करने के निर्देश भी दिया.
 
प्रदेश में मौसमी बीमारियों के आंकड़े
साल 2017 में स्वाइन फ्लू के 3,625 मामले सामने आए. इस दौरान 279 लोग मौत का शिकार हुए. वहीं 2018 में स्वाइन फ्लू से पीड़ित लोगों की संख्या 2,419 पहुंची. इस दौरान 225 लोग की जान गयी. वहीं, इस साल 2019 में 5081 लोग स्वाइन फ्लू का शिकार हुए. इस दौरान 208 लोग मौत के मुंह में जा चुके हैं.

जानिए स्वाइन फ्लू के लक्षण
स्वाइन फ्लू के दौरान तीन से चार दिन तक खांसी, जुखाम, बुखार, सांस लेने में दिक्कत, उल्टी, दस्त, पेट दर्द, बलगम में रक्त आना, नाखूनों में नीलापन, अगर ये तमाम लक्षण सामने आ सकता है. इस तरह की समस्या सामने आने के बाद फौरन डॉक्टर से सलाह ले.

Muzammil Ayyub, News Desk