close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

महाराष्ट्र: शिवसेना की अहम बैठक आज, आदित्य ठाकरे को चुना सकता है विधायक दल का नेता

शिवसेना सुप्रीमो उद्धव ठाकरे भी सरकार के गठन को लेकर पार्टी के वरिष्ठ नेताओ के साथ एक बैठक करेंगे.

महाराष्ट्र: शिवसेना की अहम बैठक आज, आदित्य ठाकरे को चुना सकता है विधायक दल का नेता
आदित्य ठाकरे ने वर्ली विधानसभा क्षेत्र से जीत हासिल की है. (फाइल फोटा साभार @ShivSena)

मुंबई: महाराष्ट्र विधानसभा चुनाव (Maharashtra assembly elections 2019) के नतीजों के बाद बने पेचीदा सिसासी समीकरणों के बीच शिवसेना (shiv sena) विधायक दल की बैठक शनिवार को मुंबई में होगी. सूत्रों के अनुसार इस बैठक में आदित्य ठाकरे (Aditya Thackeray) को विधायक दल का नेता चुना जा सकता है. बता दें आदित्य ठाकरे के विधानसभा क्षेत्र वर्ली में शुक्रवार को आदित्य को भावी मुख्यमंत्री बताते हुए पोस्टर लगे नजर आए थे. 

वहीं शिवसेना सुप्रीमो उद्धव ठाकरे (Uddhav Thackeray) भी सरकार के गठन को लेकर पार्टी के वरिष्ठ नेताओ के साथ एक बैठक करेंगे. यह बैठक उनके निवास स्थान मातोश्री पर होगी. बैठक में 50-50 फॉर्मूले पर चर्चा होगी. सूत्रों के मुताबिक शिवसेना की तरफ से पार्टी के दो वरिष्ठ नेताओ को बीजेपी से बात करने के लिए नियुक्त किया जाएगा.

महाराष्ट्र की राजनीति में शुक्रवार को उस समय हलचल मच गई जब कांग्रेस संकेत दिया कि वह शिवसेना के नेतृत्व वाली सरकार को समर्थन दे सकती है. राज्य कांग्रेस के अध्यक्ष बालासाहेब थोराट ने मीडियाकर्मियों से कहा, "हम से इस पर अब तक शिवसेना से कोई बातचीत नहीं हुई है. हालांकि, अगर ऐसा होता है तो हम इस मामले पर निर्णय के लिए पार्टी आलाकमान के समक्ष रखेंगे."

बता दें इससे एक दिन पहले इसी प्रकार का प्रस्ताव राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (एनसीपी) के वरिष्ठ नेता व पूर्व उप मुख्यमंत्री छगन भुजबल व कांग्रेस के वरिष्ठ सांसद हुसैन दलवी द्वारा दिया गया था, ऐसा शिवसेना के सहयोगी व सत्तारूढ़ बीजेपी को सत्ता से दूर रखने के लिए आया है.

गौरतलब है कि कांग्रेस, एनसीपी और इसके दूसरे सहयोगियों ने 288 सदस्यीय महाराष्ट्र विधानसभा में 117 सीट हासिल किया है. बीजेपी-शिवसेना ने संयुक्त रूप से 161 सीटें हासिल की हैं.

हालांकि मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस ने गुरुवार को स्पष्ट तौर पर इस तरह की अटकलों को खारिज कर दिया था और दृढ़ता के साथ कहा कि अगली सरकार भाजपा व उसके सहयोगी बनाएंगे.