बालासाहेब के सिद्धातों के खिलाफ बन रहा है शिवसेना-NCP-कांग्रेस का गठबंधन: आठवले

शिवसेना या बीजेपी के साथ होने के सवाल पर आठवले ने कहा, 'मैं बीजेपी के साथ हूं, मैं शिवेसना गठबंधन के साथ नहीं जा रहा हूं, अन्य छोटे सहयोगी दलों की मुझे जानकारी नहीं है.'

बालासाहेब के सिद्धातों के खिलाफ बन रहा है शिवसेना-NCP-कांग्रेस का गठबंधन: आठवले
(फोटो साभार - ANI)

मुंबई: महाराष्ट्र में शिवसेना-एनसीपी और कांग्रेस के गठबंधन को लेकर केंद्रीय मंत्री रामदास आठवले (Ramdas Athawale) ने कहा है कि यह गठबंधन अस्वाभाविक है, कितने दिन चलेगा पता नहीं. आरपीआई नेता ने कहा, 'शिवसेना बालासाहब ठाकरे का  नाम आगे करके राजनीति कर रही है. यह गठबंधन बालासाहब के सिद्धांतों के खिलाफ बन रहा है. फिर भी उद्धव ठाकरे को सीएम पद के लिए शुभकामनाएं.' महाराष्ट्र के राजनैतिक हालात पर रामदास आठवले ने कहा, मैनें जो फॉर्मूला दिया था उस पर बीजेपी के तरफ से कोई जवाब नहीं मिला. मेरे प्रयास अभी भी जारी है.'

आठवले ने बताया कि शिवेसना नेता संजय राऊत से उनकी कल भी मुलाकात हुई थी, उन्होंने 3 साल बीजेपी और 2 साल शिवसेना के सीएम फार्मूला बताया था. आरपीआई नेता ने कहा कि यदि उद्धव ठाकरे के सीएम बनने का प्रस्ताव पहले सही रूप में सामने आया होता तो बीजेपी ने समर्थन दे दिया होता. 

शिवसेना या बीजेपी के साथ होने के सवाल पर आठवले ने कहा, 'मैं बीजेपी के साथ हूं, मैं शिवेसना गठबंधन के साथ नहीं जा रहा हूं, अन्य छोटे सहयोगी दलों की मुझे जानकारी नहीं है.'

यह भी पढ़ें- शिवसेना की सरकार में कांग्रेस का तीसरे नंबर की पार्टी बनना दफन होने जैसा: संजय निरुपम

महाराष्ट्र में सरकार गठन को लेकर उधेड़बुन में लगी शिवसेना (Shivsena) अब 'सेक्युलर' बनने तक को तैयार है. सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक हिंदुत्व का राग अलापने वाली शिवसेना के नेता संजय राउत (Sanjay Raut) ने यहां तक कह दिया कि शिवसेना तो पहले से ही सेक्युलर है. इससे पहले कांग्रेस (Congress) ने शिवसेना के सामने उग्र हिंदुत्व को छोड़कर "सेक्युलर"  होने की शर्त रखी थी.

यह भी पढ़ें-  शरद पवार से मिले संजय राउत, बोले- 'सरकार बनाने की जिम्मेदारी हमारी नहीं'

आपको बता दें कि बुधवार रात (20 नवंबर) को एनसीपी सुप्रीमो शरद पवार (Sharad Pawar) की शिवसेना चीफ उद्धव ठाकरे (Uddhav Thackeray) से बातचीत हुई. जिसमें पवार ने "कॉमन मिनिमम प्रोग्राम" के तहत शिवसेना से सेक्युलर रहने की बात की. शिवसेना नेता ने इसपर सहमति भी जता दी है. यानि सरकार बनाने के लिए शिवसेना किसी भी तरह के शर्त मानने से परहेज नहीं कर रही है.