close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

EU सांसदों के कश्मीर दौरे पर शिवसेना का सवाल, 'क्या यह भारत की संप्रभुता पर हमला नहीं?'

शिवसेना ने कहा, 'जम्मू-कश्मीर हिंदुस्तान का आंतरिक मामला है तो ऐसे में यूरोपियन समुदाय के दल के कश्मीर में आने का प्रयोजन क्या है ?'

EU सांसदों के कश्मीर दौरे पर शिवसेना का सवाल, 'क्या यह भारत की संप्रभुता पर हमला नहीं?'
यूरोपियन यूनियन के सांसदों ने मंगलवार को श्रीनगर में डल झील का लुत्फ उठाया. (फोटो साभार - रॉयटर्स)

मुंबई: शिवसेना (Shiv Sena) के मुखपत्र सामना कें संपादकीय में केंद्र सरकार की कश्मीर नीति की चर्चा की गई है. संपादकीय में जहां अनुच्छेद 370 (Article 370) खत्म करने और जम्मू कश्मीर (Jammu and Kashmir) के हालात को कंट्रोल करने के लिए मोदी सरकार की तारीफ की गई है वहीं यूरोपियन यूनियन (European Union) के सांसदों के राज्य के दौरे को लेकर सरकार पर हमला भी बोला गया है

सामना में लिखा है जम्मू-कश्मीर से अनुच्छेद-370  (Article 370) हटाया और अब कश्मीर घाटी की परिस्थिति पूरी तरह से नियंत्रण में है. आयात-निर्यात शुरू है. फोन, मोबाइल और इंटरनेट सेवा बहाल कर दी गई है. वहा की जनता खुलकर आजादी का स्वाद और सांस ले रही है. ऐसे समय में यूरोपियन समुदाय का 23 सदस्यों का एक दल जम्मू-कश्मीर के दौरे पर आया हुआ है. 

जम्मू-कश्मीर हिंदुस्तान का आंतरिक मामला है तो ऐसे में यूरोपियन समुदाय के दल के कश्मीर में आने का प्रयोजन क्या है ? कश्मीर कोई अंतरास्ट्रीय मुदा नहीं है . इस मामले को पंडित नेहरू 'यूएन' में लेकर गए थे जिस पर आज भी बहस होती है . इसलिए  अब यूरोपियन समुदाय के प्रतिनिधि मंडल के जम्मू कश्मीर में आने से विरोधियों को फालतू का मुद्दा मिल जाएगा .

संपादकीय में कहा गया है, 'आपको यूएन का हस्तक्षेप स्वीकार नहीं है लेकिन यूरोपियन समुदाय का कश्मीर आकर दौरा करना क्या हिंदुस्तान की आज़ादी और संप्रभुता पर बाहरी हमला नहीं है ? कश्मीर में आज भी नेताओं के लिए प्रवेश बंद है. ऐसे में यूरोपियन समुदाय के सदस्य कश्मीर आकर क्या करनेवाले हैं. 

सामना में कहा गया है, प्रधानमंत्री मोदी और गृहमंत्री अमित शाह मैं कश्मीर से अनुच्छेद 370 हटा कर राष्ट्रीय भावनाओं को ज्वलंत कर दिया है हमारा इतना ही कहना है यूरोपियन यूनियन के सांसद कश्मीर घूमकर शांतिपूर्वक लौट जाएं और वहां का वातावरण ना बिगड़ने पाएं.