भोपाल में हुए ‘मजहबी प्रोटेस्ट’ पर खफा शिवराज, एक्शन में आए मुख्यमंत्री

मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान (CM MP Shivraj Singh Chouhan) ने कहा है कि शांति भंग करने वालों को बख्शा नहीं जायेगा, वो चाहे कोई भी हो.

भोपाल में हुए ‘मजहबी प्रोटेस्ट’ पर खफा शिवराज, एक्शन में आए मुख्यमंत्री
फाइल फोटो.

भोपाल: भारत (India) इस्लामिक आतंकवाद (Islamic Terror) के विरोध में आवाज उठाने वाले फ्रांस के राष्ट्रपति इमैनुएल मैक्रों (French President Emmanuel Macron) के समर्थन में है तो वहीं मध्य प्रदेश (Madhya Pradesh) की राजधानी भोपाल (Bhopal) में चंद लोगों ने देश की साख पर बट्टा लगाने की कोशिश की. भोपाल के इकबाल मैदान में कांग्रेस विधायक आरिफ मसूद के नेतृत्व में हजारों की संख्या में लोग एकत्र हुए और फ्रांस के राष्ट्रपति के विरोध के नाम पर नारेबाजी की. अब इस पर शिवराज सरकार (Shivraj Government) ने सख्त रुख अख्तियार कर लिया है.

यह भी पढ़ें: 'इस्लामिक आतंक' के खिलाफ फ्रांस का महायुद्ध शुरू, इन बड़ी महाशक्तियों का मिला साथ

VIDEO

‘दोषी को बख्शा नहीं जायेगा’
मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान (CM MP Shivraj Singh Chouhan) ने मामले का संज्ञान लिया है. जानकारी के मुताबिक शिवराज इस धरना प्रदर्शन से नाराज हैं. शिवराज ने ममाले में दोषियों पर सख्त कार्रवाई के आदेश हैं. एक ट्वीट में शिवराज ने लिखा है, ‘मध्यप्रदेश शांति का टापू है. इसकी शांति को भंग करने वालों से हम पूरी सख्ती से निपटेंगे. इस मामले में 188 IPC के तहत मामला दर्ज कर कार्रवाई की जा रही है. किसी भी दोषी को बख्शा नहीं जायेगा, वो चाहे कोई भी हो.

क्या है मामला
दरअसल फ्रांस के राष्ट्रपति के खिलाफ विरोध के नाम पर मध्य प्रदेश की राजधानी भोपाल में कांग्रेस विधायक आरिफ मसूद  के नेतृत्व हजारों लोग इकट्ठे हुए. इस दौरान जमकर मजहबी नारेबाजी और तकरीर कई गई. राष्ट्रपति मैक्रों को माफी मांगने व भारत को फ्रांस से आयात-निर्यात बंद करने की मांग की गई. कोरोना वायरस प्रोटोकॉल की धज्जियां उड़ाई गईं. सोशल डिस्टेंसिंग का पालन तो दूर लोगों ने मास्क तक नहीं लगाए. अब सरकार सख्ती से निपटने जा रही है. मामले में दो हजार लोगों के खिलाफ केस दर्ज कर लिया गया है.