close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

सीकर: प्याज की कीमतों में बढ़ोत्तरी के बाद किसानों की झोली खाली, जानें क्यों...

कहीं, किसान लागत वसूलने का रोना रो रहे हैं तो कहीं प्याज का व्यापार करने वाले बरसात का हवाला देकर दामों की बढ़ोतरी की बात कह रहे हैं.  

सीकर: प्याज की कीमतों में बढ़ोत्तरी के बाद किसानों की झोली खाली, जानें क्यों...
प्याज फिलहाल 60 से 70 रुपए किलो बिक रहा है

अशोक शेखावत/सीकर: इन दिनों सब्जी मंडियों में प्याज के भाव आसमान छू रहे हैं. जहां 3 महीने पहले प्याज महज 10 से 15 रुपए किलो बिकता था, वहीं, अब यह 60 से 70 रुपए किलो का आंकड़ा पार कर चुका है. किसान जहां प्याज की लागत वसूल नहीं कर पा रहे हैं, वहीं, इन दिनों प्याज के भाव सेव को टक्कर दे रहे हैं. प्याज की बेतहाशा वृद्धि को लेकर मंडी से व्यापारी तक अलग-अलग दलीलें दी जा रही हैं. कहीं, किसान लागत वसूलने का रोना रो रहे हैं तो कहीं प्याज का व्यापार करने वाले बरसात का हवाला देकर दामों की बढ़ोतरी की बात कह रहे हैं.

बता दें कि, सीकर देशभर में नासिक के बाद प्याज उत्पादन का दूसरा बड़ा क्षेत्र है. सीकर के प्याज की खेती करने वाले किसानों को कभी भी उनकी लागत वसूल नहीं हो पाई. दिसंबर से मार्च तक सीकर के प्याज की आवक बाजार में हो जाती है. किसानों को यह प्याज महज 2 रुपए से 3 रुपए किलो में बेचना पड़ता है, लेकिन यहीं पर फिर बाजार में ऊंचे दामों में बिकने लगता है. 

वहीं, किसानों का कहना है कि दिसंबर से मार्च तक प्याज  की सप्लाई बाजारों में की जाती है, लेकिन उनके पास स्टोरेज की कोई व्यवस्था नहीं होने के कारण उन्हें यह प्याज खराब होने के डर के चलते कम दामो में बाजार मंडी में निकालना पड़ता है, अगर स्टोरेज की व्यवस्था होती तो यही प्याज ऊंचे दामों में बेच सकते हैं.

इन दिनों अचानक प्याज के दामों में बढ़ोतरी हुई है. प्याज  फिलहाल कहीं 60 तो कहीं 70 रुपए किलो बिक रहा है. प्याज के व्यापारियों का कहना है कि सीकर का प्याज मार्च तक आता है स्टोरेज की व्यवस्था नहीं होने के चलते इसे जल्दबाजी में निकालना पड़ता है. अब जो प्याज बाजार में आ रहा है वह नासिक का प्याज है. नासिक के प्याज 15 से 20 रुपए किलो में खरीद पड़ती है और वह उसे 25 तक बेज देते हैं. अब बाजार में यही प्याज 60 से 70 रुपए किलो बिक रहा है. 

वहीं, व्यापारियों का कहना है कि खुदरा व्यापारी अपने मनमर्जी से इस प्याज को बेच रहे हैं. साथ ही, व्यापारियों का यह भी कहना है की बरसात होने के कारण प्याज  के खराब होने का डर रहता है. इसके चलते प्याज की कीमतों में बढ़ोतरी हुई है. अचानक प्याज की कीमतों में हुई बढ़ोतरी के चलते लोग की खरीद कम जरूर हुई है लेकिन प्याज की कीमतों में कोई कमी होने के आसार नजर नहीं आ रहे है.