close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

सीकर: बीजेपी नेता का बड़ा बयान- 'देश हित में कश्मीर में बलप्रयोग भी सही'

पाकिस्तान के विषय में सबकुछ भगवान की कृपा से हो रहा है. जिस अनुच्छेद 370 को हटाना असंभव लगता था, वो आसानी से हो गया. 

सीकर: बीजेपी नेता का बड़ा बयान- 'देश हित में कश्मीर में बलप्रयोग भी सही'
फाइल फोटो

सीकर: केंद्रीय राज्य मंत्री प्रतापचन्द्र सारंगी ने बड़ा तल्ख बयान दिया है. उन्होंने कहा कि जिनको इस देश में रहने में कष्ट होता है, वो देश छोड़कर जा सकते हैं लेकिन उन्हें देश को विभाजित करने का हक नहीं है. सारंगी सिरोही जिले के आबू रोड स्थित ब्रह्माकुमारीज के शान्तिवन परिसर में चल रही पांच दिवसीय ग्लोबल कॉन्फ्रेंस को संबोधित करने पहुंचे हैं. 

अध्यात्म से एकता, शांति और समृद्धि विषय पर आयोजित सम्मेलन में सारंगी ने वैज्ञानिकों से अपील की मंगल में मानव जीवन सन्धान करने के बजाय मानव जीवन में मंगल लाने के लिए प्रयास करें. उन्होंने कहा कि ब्रह्माकुमारीज का पूरा वातावरण प्रभावित करने वाला है. हमारे देश में विज्ञान और अध्यात्म साथ चलता है. यूरोप में विज्ञान और अध्यात्म में प्रतिस्पर्धा है.

कार्यक्रम के बाद मीडिया से बातचीत में सारंगी ने कहा कि जिनको वन्देमातरम नहीं कहना है, उन्हें दूसरा रास्ता खोज लेना चाहिए. ये मेरा व्यक्तिगत मत है. तलाश लें. वंदे मातरम का मतलब है भारत माता की जय. हिंदुस्तान का विभाजन सम्प्रदायिक आधार पर हुआ है. हमने कहीं नहीं बोला कि मुसलमान हमारे साथ नहीं रह सकते लेकिन और विभाजन हम नहीं होने देंगे. पाकिस्तान से बातचीत कैसे होगी. एक हाथ में बंदूक हो तो बातचीत कैसे होगी.

पाकिस्तान के विषय में सबकुछ भगवान की कृपा से हो रहा है. जिस अनुच्छेद 370 को हटाना असंभव लगता था, वो आसानी से हो गया. लोग सोचा करते थे कि रक्त की नदियां बहेंगी, पर ऐसा कुछ नहीं हुआ. मानवाधिकार को देश की आम जनता की तकलीफ दिखाई नहीं देती लेकिन एक पुलिसवाले की गोली से एक आतंकवादी मर जाता है तो आकाश पाताल एक कर देते हैं.  लाखों कश्मीरी पंडित बहु बेटियों के साथ अत्याचार हुआ तो कोई आगे नहीं आए. जवानों के मरने से उनकी बहू बेटी विधवा होती है तो उनका दर्द भी मानवाधिकार कार्यकर्ताओं को नहीं दिखता. इन्होंने सिर्फ आतंकियों के मानवाधिकार के लिए ठेका ले रखा है. मेरा कहना कि देश की सुरक्षा के लिए अवांछनीय होते हुए भी थोड़ा बल प्रयोग करना चाहिए.