close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

राजस्थान में भारी बारिश से बिगड़े हालात, सीएम ने ली हाईलेवल मीटिंग

 सीएम गहलोत ने निर्देश दिए हैं कि धौलपुर में आवश्यकता होने पर प्रभावित लोगों को सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाया जाए.

राजस्थान में भारी बारिश से बिगड़े हालात, सीएम ने ली हाईलेवल मीटिंग
कई जिले के सौ से अधिक गांव का संपर्क एक-दूसरे टूट गया है.

जयपुर: राजस्थान में बाढ़ और बारिश से बिगड़े हालात पर मुख्यमंत्री अशोक गहलोत काफी संजीदा हैं. इसको लेकर मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने शनिवार को सीएमओ में एक हाईलेवल बैठक बुलाई. बैठक में सीएम गहलोत ने सबसे ज्यादा बारिश से प्रभावित इलाकों में सरकार की ओर से चलाए जा रहे राहत बचाव कार्यों की समीक्षा की. 

बता दें कि, धौलपुर, प्रतापगढ़, झालावाड़ जिले में सबसे ज्यादा बारिश से जलभराव की स्थित हो गई है. जलभराव के हालात को देखते हुए मुख्यमंत्री गहलोत ने तत्काल राहत कार्य शुरू करने के अधिकारियों को निर्देश दिए हैं. साथ ही, बारिश प्रभावित इलाकों में मुख्यमंत्री ने एसडीआरएफ और अन्य राहत एजेंसियों को भेजने के आदेश भी दिए. 

 

वहीं, सीएम गहलोत ने निर्देश दिए हैं कि धौलपुर में आवश्यकता होने पर प्रभावित लोगों को सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाया जाए. बारिश प्रभावित जिलों के प्रभारी सचिव को हालात का जायजा लेने और राहत कार्यों की निगरानी के भी निर्देश दिए हैं. बैठक में आपदा प्रबंधन मंत्री मास्टर भंवरलाल मेघवाल, मुख्य सचिव डी बी गुप्ता, शासन सचिव जल संसाधन और शासन सचिव आपदा प्रबंधन समेत तमाम अधिकारी मौजूद रहे. 

आपको बता दें कि लगातार हो रही बारिश और नदियों में बांध से छोड़े जाने वाले पानी से कई जिलों में हालात बिगड़ गए हैं. बारिश और बाढ़ से सबसे ज्यादा कोटा, बांसवाड़ा, झालावाड़, प्रतापगढ़, पाली और धौलपुर में हालात खराब हैं.

गौरतलब है कि प्रदेश में बिना रुके पिछले 36 घंटे से लगातार बारिश हो रही है. प्रतापगढ़ जिले के सौ से अधिक गांव का संपर्क एक-दूसरे टूट गया है. सैंकड़ों लोग एक जगह से दूसरी जगह जाने के लिए पुलिया पर बहते पानी में फंसे हुए हैं. वहीं, प्रदेश के झालावाड़ जिले की बात करें तो पिडावा क्षेत्र में दो दिनों से मुसलाधार बारिश का दौर जारी है. सड़कों पर पानी का सैलाब आ गया है. बारिश के कारण लोगों का घरों से निकलना दुर्भर हो गया है.