close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

केरल: 14 साल, 6 कत्ल, मारने के लिए सायनाइड का इस्तेमाल, 3 गिरफ्तार

केरल के कोझिकोड में यह मामला सामने आया है. यहां एक ही 14 सालों में एक ही परिवार के 6 लोगों की एक ही जैसी परिस्थितियों में मौत हुई थी. 

केरल: 14 साल, 6 कत्ल, मारने के लिए सायनाइड का इस्तेमाल, 3 गिरफ्तार
आरोपी जॉली थॉमस को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है. (फोटो साभार - ANI)

तिरुवनंतपुरम: केरल (Kerala) में एक हैरान करने वाला मामला सामने आया है. कोझिकोड  (Kozhikode) में एक महिला पर अपने सास, ससुर, पति और तीन अन्य रिश्तेदारों का कत्ल करने का आरोप लगा है. आरोप है कि महिला ने हत्याओं के लिए सायनाइड (Cyanide) का इस्तेमाल किया और 14 सालों में पूरे परिवार को मौते के घाट उतार दिया. 

अब तक कोझिकोड पुलिस (police) ने जॉली थॉमस और उसके दोस्त एम.मैथ्यू और एक आभूषण कर्मचारी को गिरफ्तार किया है, जो हत्याओं के लिए सायनाइड की व्यवस्था करता था.

पीड़ितों को खाने में मिलाकर सायनाइड  देती थी जोली 
जांच से पता चला है कि जॉली पीड़ितों को खाने में सायनाइड मिलाकर देती थी. सायनाइड की वजह से ऐसी पहली कथित मौत 2002 में उसकी सास अनम्मा थॉमस की हुई थी.

छह साल बाद 2008 में, जॉली ने कथित रूप से अपने ससुर टॉम थॉमस की हत्या कर दी और 2011 में जॉली ने अपने पति रॉय थॉमस की भी हत्या कर दी थी.

थॉमस परिवार में हत्याओं का दौर यहीं नहीं थमा. 2014 में ऐसी ही परिस्थितियों में रॉय थॉमस के मामा मैथ्यू की मौत हो गई. दो वर्ष बाद एक और करीबी रिश्तेदार सिली और उसके एक वर्षीय बच्चे की समान परिस्थतियों में मौत हो गई. सिली, शाजू (जॉली के प्रेमी) की पत्नी थी.

जॉली ने गुनाह कबूला
पीड़ित परिवार के शख्स द्वारा दर्ज कराई गई शिकायत के बाद पुलिस ने इस मामले में जांच शुरू की. पुलिस जांच से पता चला कि सभी पीड़ितों की मौत खाना खाने के बाद हुई. जॉली के अलावा घर में सभी की मौत से उसके ऊपर शक की सुई गई. कोझिकोड ग्रामीण एसपी ने कहा, 'हमने जोली की मौजूदगी हर उस जगह पाई जहां मौत हुई थीं. उनसे अपने पक्ष में संपत्ति हासिल करने के लिए नकली दस्तावेज बनाए'

सूत्रों ने बताया कि लंबी पूछताछ के बाद जॉली ने आखिरकार अपना गुनाह कबूल कर दिया. जहां तक घटना के उद्देश्य का सवाल है, जॉली, शाजू से शादी करना चाहती थी और उनकी नजरें थॉमस परिवार की संपत्ति पर थीं.

'हत्या केवल एक ही परिवार तक सीमित नहीं'
केरल के पुलिस महानिदेशक (डीजीपी) लोकनाथ बेहरा ने संदेह जताते हुए कहा कि हो सकता है कि जॉली (अब 47) द्वारा सुनियोजित तरीके से कोझिकोड में केवल एक ही परिवार का सफाया नहीं किया गया हो.

बेहरा ने कहा, 'जॉली और उसके सहयोगियों द्वारा किए गए अपराध के पूरे परिप्रेक्ष्य पर टिप्पणी करना अभी बहुत जल्दबाजी होगी. हालांकि यह जांच के लिए काफी पेचीदा मामला है लेकिन मैं उनके द्वारा और हत्याओं की संभावनाओं से इनकार नहीं कर सकता.'

उन्होंने कहा, "हम जॉली के आपराधिक प्रोफाइल का पता लगाने के लिए उसके पूर्व संबंधों और कुछ सबूतों का पता लगा रहे हैं. इस समय जघन्य हत्याओं के पीछे वास्तविक तस्वीर बहुत हद तक साफ नहीं है. मैं केवल यही कह सकता हूं कि पुलिस ने हत्याओं का पर्दाफाश करने के लिए अच्छा काम किया है, जिसका शायद कभी पता नहीं चल पाता."

(इनपुट - एजेंसी)