close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

'स्टैच्यू ऑफ यूनिटी' ने दुनिया के 7वें अजूबे ताजमहल को इस मामले में पछाड़ा...

आर्कियोलॉजिकल सर्वे ऑफ इंडिया (Archaeological Survey of India) द्वारा किए गए सर्वे में यह बात सामने आई है.

'स्टैच्यू ऑफ यूनिटी' ने दुनिया के 7वें अजूबे ताजमहल को इस मामले में पछाड़ा...
फाइल फोटो

नई दिल्‍ली/अहमदाबाद : भारत के प्रथम उप प्रधानमंत्री एवं पहले गृह मंत्री सरदार वल्लभभाई पटेल (Sardar Vallabhbhai Patel) को समर्पित स्मारक 'स्टैच्यू ऑफ यूनिटी' (Statue Of Unity) ने नया मुकाम हासिल किया है. स्टैच्यू ऑफ यूनिटी देश के श्रेष्ठ 5 स्मारकों में से सबसे ज्यादा कमाई करने वाला स्मारक बन गया है. आर्कियोलॉजिकल सर्वे ऑफ इंडिया (Archaeological Survey of India) द्वारा किए गए सर्वे में यह बात सामने आई है.

पुरातत्व अध्ययन और सांस्कृतिक स्मारकों के अनुरक्षण के लिए उत्तरदायी आर्कियोलॉजिकल सर्वे ऑफ इंडिया द्वारा किए गए सर्वे में कहा गया है कि स्टैच्यू ऑफ यूनिटी देश के श्रेष्ठ 5 स्मारकों में सबसे ज्यादा कमाई करने वाला स्मारक बन गया है. इसके तहत ताजमहल (Tajmahal) ने जहां एक साल में 56 करोड़ की कमाई की है तो Statue Of Unity ने 63 करोड़ की कमाई की. बता दें कि बीते 31 अक्टूबर को ही स्टेच्यू ऑफ़ यूनिटी को बने एक साल पूरा हुआ है.

LIVE TV...

दरअसल, सरदार वल्लभ भाई पटेल की प्रतिमा स्टैच्यू ऑफ यूनिटी 182 मीटर ऊंची (597 फीट) है और ये दुनिया की सबसे ऊंची प्रतिमा है. खास बात यह है कि इसे बनाने में 2,989 करोड़ रुपए खर्च हुए हैं और इसे लार्सन एंड टुब्रो कंपनी ने बनाया है. ये मूर्ति सरदार सरोवर बांध से 3.2 किलोमीटर दूर साधू बेट नाम के स्थान पर है जो नर्मदा नदी पर एक टापू है. इस मूर्ति को बनाने में 3000 से ज्यादा लोग और 250 से ज्यादा इंजीनियरों ने काम किया. 

ये वीडियो भी देखें: