close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

बारां: एनएच-27 पर घूमते आवारा पशु बने जान की मुसीबत, प्रशासन मौन

बारां(Baran) जिले से गुजरने वाली हाइवे एनएच-27(National Highway-27) पर घुमते आवारा मवेशी वाहन चालकों के लिए जानलेवा साबित हो रहे हैं.

बारां: एनएच-27 पर घूमते आवारा पशु बने जान की मुसीबत, प्रशासन मौन
प्रतीकात्मक फोटो

राम मेहता, बारां: बारां(Baran) जिले से गुजरने वाली हाइवे एनएच-27(National Highway-27) पर घुमते आवारा मवेशी(Stray Animals) वाहन चालकों के लिए जानलेवा साबित हो रहे हैं. अचानक पौधों के बीच से डिवाइडरों(Dividers) से सड़कों पर आने वाले मवेशी हर महीने लोगों की जान ले रहे हैं. हाईवे के बीच बने डिवाइडरों के बीच में लगे पौधों के बीच जगह जगह अवारा मवेशी विचरण करते रहते है. जो अचानक रोड पर आ जाते है.

ऐसे में वाहन चालकों को सम्भलने का मौका तक नहीं मिलता और वाहन चालक दुर्घटना के शिकार हो जाते है. यह समस्या जिले से गुजरने वाली सड़क में पलायता से कस्बाथाना के बीच बनी हुई है. अनुमान है कि हर महीने इन आवारा मवेशियों के कारण एक दर्जन से अधिक लोगों की मौत हो जाती है. वहीं, दो दर्जन से अधिक वाहन दुघर्टना तक के शिकार हो जाते हैं.

प्रशासन और सरकार का नहीं है ध्यान
इसके बावजूद इस गंभीर समस्या की ओर न तो प्रशासन और न ही सरकार की ओर से ध्यान दिया जा रहा है. जिसका खामियाजा निर्दोष वाहन चालकों को भुगतना पड़ रहा है. 

रात के समय बढ़ जाती है समस्या
नेशनल हाइवे के इस डिवाइडर के बीच विचरण करते आवारा मवेशी दिन के समय तो जैसे तैसे वाहन चालकों को नजर भी आ जाते है. लेकिन रात के समय यह समस्या और भी दयनीय बन जाती है. जब मवेशी डिवाइडर से निकलकर अचानक रोड पर आ जाते है.

ऐसा नहीं है कि इन आवारा मवेशियों से सिर्फ वाहन चालक ही दुर्घटना के शिकार हो रहे है बल्कि आवारा मवेशी भी मौत का ग्रास बन रहे है. अभी हाल ही में नेशनल हाइवे पर आधा दर्जन मवेशियों की अज्ञात वाहन की टक्कर से मौत हो गयी थी.