close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

राजस्थान में 'युवा कौशल योजना' के जरिए छात्रों को मिलेगा स्किल कोर्स का प्रशिक्षण

डूंगरपुर एसबीपी कॉलेज के प्राचार्य डॉ सी के जैन ने बताया की योजना के तहत राजकीय कालेजों में स्नातक व स्नाकोत्तर कर रहे युवाओं को रोजगार से जोड़ने के उद्देश्य से स्किल कोर्स का निशुल्क प्रशिक्षण दिया जाएगा.

राजस्थान में 'युवा कौशल योजना' के जरिए छात्रों को मिलेगा स्किल कोर्स का प्रशिक्षण
छात्र पढ़ाई पूरी करने के साथ स्किल कोर्स करके कॉलेज से निकलते ही रोजगार से जुड़ पाएंगे.

अखिलेश शर्मा/डूंगरपुर: प्रदेश में स्नातक व स्नाकोत्तर कर रहे युवाओं के लिए सरकार ने बड़ी खुशखबरी दी है. मुख्यमंत्री युवा कौशल योजना के तहत छात्र राजकीय कॉलेजों में स्नातक व स्नाकोत्तर के बाद अब विद्यार्थियों को स्किल कोर्स के जरिए रोजगार के गुर सिखाए जाएंगे. उच्च शिक्षा विभाग की ओर से युवाओं को 31 प्रकार के स्किल कोर्स का प्रशिक्षण दिया जाएगा ताकि कॉलेज पूरा करने के बाद ही युवा रोजगार से जुड़ सके.

बेरोजगारी आज देश व प्रदेश की सबसे बड़ी समस्या है. इसी समस्या से निजात पाने के लिए प्रदेश की अशोक गहलोत सरकार ने युवाओं के लिए मुख्यमंत्री युवा कौशल योजना का आगाज किया है. डूंगरपुर एसबीपी कॉलेज के प्राचार्य डॉ सी के जैन ने बताया की योजना के तहत राजकीय कालेजों में स्नातक व स्नाकोत्तर कर रहे युवाओं को रोजगार से जोड़ने के उद्देश्य से स्किल कोर्स का निशुल्क प्रशिक्षण दिया जाएगा. सरकार की इस योजना का बड़ा लाभ आदिवासी बहुल डूंगरपुर जिले के युवाओं को मिलेगा. कालेज में स्नातक व स्नाकोत्तर कर रहे युवा अपनी पढ़ाई के साथ-साथ स्किल कोर्स कर पाएंगे ताकि पढ़ाई पूरी करने के साथ स्किल कोर्स करके वे कॉलेज से निकलते ही रोजगार से जुड़ पाएंगे.

मुख्यमंत्री युवा कौशल योजना के तहत उच्च शिक्षा विभाग युवाओं को 31 प्रकार के स्किल डवलपमेंट के कोर्स करवाए जायेंगे. जिसमे व्यवहारिक पत्राचार व सुविधा सेवाए कौशल, लेखा एवं कर सहायक, वेब डवलपर, फिटनेस ट्रेनर, योग ट्रेनर, अंग्रेजी बोलचाल व संवाद, हेयर स्टाइलिंग व ब्यूटी थेरेपी, डिजिटल फोटोग्राफी व वीडियोग्राफी, ग्रीन हाउस ओपरेटर, जैविक उत्पाद  जैसे कुल 31 प्रकार के प्रशिक्षण विद्यार्थियों को दिए जायेंगे. वहीं, प्रत्येक कोर्स  कम से कम 20 व अधिक से अधिक 35 छात्रों के होने पर ही बेच होगा.

बहरहाल, मुख्यमंत्री युवा कौशल योजना के तहत कालेजो में विद्यार्थियों से आवदेन मांगे जा रहे हैं. लेकिन युवाओं को रोजगार दिलाने के उद्देश्य से शुरू की गई मुख्यमंत्री युवा कौशल योजना कॉलेज से प्रशिक्षण लेने के बाद रोजगार दिलाने में कितनी कारगार साबित होगी ये तो आने वाला वक्त बतायेगा. लेकिन इतना तो तय है की योजना के तहत प्रशिक्षण लेने के बाद युवा अपने पैरों पर जरुर खड़े हो पाएंगे.