close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

गोरेगांव हादसाः दिव्यांश के पिता का आरोप- पुलिस ने मुझे बेवजह थाने में बंद कर दिया

 जिस गटर में दिव्यांश गिरा वहां से तकरीबन 100 मीटर दूरी पर एक नाला है. वह नाला जाकर मालाड की खाड़ी में मिलता है. ऐसे में बीएमसी द्वारा ये अंदेशा लगाया जा रहा है, कि इसी रूट के बीच दिव्यांश मिल सकता है.

गोरेगांव हादसाः दिव्यांश के पिता का आरोप- पुलिस ने मुझे बेवजह थाने में बंद कर दिया
दिव्यांश के पिता ने पुलिस पर आरोप लगाते हुए कहा कि जब मेयर घटनास्थल पर पहुंचे तो पुलिस ने उन्हें लॉक-अप में बंद कर दिया. (फोटो साभारः ANI)
Play

नई दिल्लीः 36 घंटे बीत जाने के बाद भी दिव्यांश का अब तक पता नहीं चला, बीएमसी की तरफ से सर्च ऑपरेशन जारी है, लेकिन कोई कामयाबी हाथ नहीं लगी है. बुधवार की रात तकरीबन  10:00 बजे के आस-पास दिव्यांश नाले में गिरा था और अब तक उसके बारे में पता नहीं चल पाया है. दिव्यांश के परिवार वालों का रो-रो कर बुरा हाल है. पूरा देश दिव्यांश के सलामती की दुआ कर रहा है. ऐसे में दिव्यांश के पिता सूरज नाराजगी जाहिर करते हुए प्रशासन और BMC को इस पूरी घटना के लिए जिम्मेदार ठहराया है.

दिव्यांश के पिता का कहना है कि प्रशासन की लापरवाही से उनका बच्चा अब तक नही मिला. उनका का कहना है कि उनके दोस्त श्रवण तिवारी को बिना कारण पुलिस ले गई, श्रवण इस घटना को लेकर प्रोटेस्ट करनेवाला था, तो इसमे गलत क्या है. उस बात को लेकर पुलिस ने श्रवण को अरेस्ट किया, सूरज के मुताबिक श्रवण को पुलिस ने नही छोड़ा तो वे भी प्रोटेस्ट करेंगे.

मुंबई: गोरेगांव में नाले में गिरा डेढ़ साल का मासूम, रेस्क्यू ऑपरेशन जारी

बता दें जिस गटर में दिव्यांश गिरा वहां से तकरीबन 100 मीटर दूरी पर एक नाला है. वह नाला जाकर मालाड की खाड़ी में मिलता है. ऐसे में बीएमसी द्वारा ये अंदेशा लगाया जा रहा है, कि इसी रूट के बीच दिव्यांश मिल सकता है. बता दें बुधवार रात करीब 10 बजकर 40 मिनट पर 1.5 साल का दिव्यांश के बाहर खेल रहा था कि इसी दौरान पैर फिसल जाने के चलते वह खुले नाले में गिर गया. बच्चे के तलाश में निकली मां को जब दिव्यांश नहीं मिला तो उन्होंने पास ही स्थित मस्जिद में लगे सीसीटीवी कैमरे की मदद ली, जिसके बाद पूरी घटना का पता चल सका.