तेलंगाना चुनाव: पलेर सीट पर 1999 से लगातार कांग्रेस जीतती आ रही है

2014 के चुनाव में कांग्रेस के वेंकट रेड्डी ने TDP के स्वर्ण कुमारी को 21,863 वोटों से हराया था.

तेलंगाना चुनाव: पलेर सीट पर 1999 से लगातार कांग्रेस जीतती आ रही है
प्रतीकात्मक फोटो.

हैदराबाद: पलेर विधानसभा खम्मम संसदीय क्षेत्र के अंतर्गत आता है. इस विधानसभा का गठन 1952 में हुआ था. 2009 से पहले यह सीट अनुसूचित जाति के लिए आरक्षित था. इस सीट पर कांग्रेस का कब्जा रहा है. कांग्रेस अब तक इस सीट से 10 बार चुनाव जीत चुकी है. कांग्रेस के वेंकट रेड्डी रामरेड्डी 2009 और 2014 का चुनाव जीत चुके हैं. 2011 मतगणना के मुताबकि, यहां की कुल आबादी 2,76,058 है. ग्रामीण आबादी 95.63 फीसदी और शहरी आबादी 4.37 फीसदी है. एससी की आबादी 21 फीसदी और एसटी की आबादी 18.44 फीसदी है.

2014 चुनाव के नतीजे
कांग्रेस के वेंकट रेड्डी ने TDP के स्वर्ण कुमारी को 21,863 वोटों से हराया था. वेंकट रेड्डी 2009 और 2014 का लगातार चुनाव जीत चुके थे. हालांकि, 2016 में उनकी मौत के बाद हुए उपचुनाव में उनकी पत्नी सुचित्रा रेड्डी नागेश्वर राव से चुनाव हार गईं.

किस प्रत्याशी को कितना फीसदी वोट मिला
2016 उपचुनाव में TRS के नागेश्वर राव को 94,940 और सुचित्रा रेड्डी को 49,258 वोट मिले थे. कुल 89.73 फीसदी मतदाताओं ने मतदान किया था.

मतदाताओं की संख्या
2018 में मतदाता सूची में सुधार के बाद यहां मतदाताओं की कुल संख्या 1,92,820 है. इनमें पुरुष मतदाताओं की संख्या 95,001 और महिला मतदाताओं की संख्या 97,803 है.

तेलंगाना में एक चरण में 7 दिसंबर 2018 को विधानसभा चुनाव के लिए वोट डाले जाएंगे. मतगणना 11 दिसंबर को होगी. नोटिफिकेशन 12 नवंबर को जारी होगा. नामांकन की आखिरी तारीख 19 नवंबर है. नामांकन वापस लेने की आखिरी तारीख 22 नवंबर है. वर्तमान में यहां पर के. चंद्रशेखर राव की नेतृत्व वाली TRS (तेलंगाना राष्ट्र समिति) यहां सत्ता में थी. सीएम चंद्रशेखर राव की अनुशंसा पर 6 सितंबर 2018 को विधानसभा को भंग कर दिया गया था. तेलंगाना के साथ-साथ मध्य प्रदेश, राजस्थान, छत्तीसगढ़ और मिजोरम में चुनाव हो रहे हैं. 7 दिसंबर को तेलंगाना के साथ राजस्थान में चुनाव होने जा रहे हैं.