नासिक में पारा 3 डिग्री पहुंचा गिरा, अंगूर उत्पादकों के लिए अलाव बना सहारा

कई किसानों ने अंगूर की फसल के आस-पास अलाव जलाकर फसल को नुकसान से बचाने की कोशिश की

नासिक में पारा 3 डिग्री पहुंचा गिरा, अंगूर उत्पादकों के लिए अलाव बना सहारा
नासिक के निफाड में भी शनिवार को पारा 0 डिग्री तक पहुंच गया था.(फाइल फोटो)

नासिकः महाराष्ट्र के नासिक जिले में न्यूनतम तापमान तीन डिग्री सेल्सियस तक गिर गया, जिसके चलते अंगूर उत्पादकों की मुश्किलें बढ़ गई हैं. ऐसे में उत्पादकों ने अपनी फसल को नुकसान से बचाने के लिए अलाव का सहारा लेना शुरू कर दिया है. कई किसानों ने अंगूर की फसल के आस-पास अलाव जलाकर फसल को नुकसान से बचाने की कोशिश की. अधिकारियों ने रविवार को यह जानकारी दी. पंचवटी पुलिस थाने के एक अधिकारी ने बताया कि शनिवार की शाम को शहर में गोदावरी नदी के तट पर दो भिखारियों के शव मिले. पुलिस को संदेह है कि अत्यधिक ठंड की वजह से उनकी मौत हुई है.

VIRAL VIDEO: शॉपिंग मॉल में लड़के ने लड़की को खुलेआम किया प्रपोज, मिला ये जवाब...

उन्होंने बताया कि अज्ञात शवों को पोस्टमार्टम के लिए सिविल अस्पताल ले जाया गया है. विभाग के एक अधिकारी ने बताया कि अंगूर उत्पादन के लिए प्रसिद्ध इस जिले की कृषि क्षेत्र कहलाने वाली निफाड़ तहसील में शनिवार को सुबह सात बजे न्यूनतम तापमान तीन डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया.

Video : इस लड़की को देखकर आलिया भट्ट भी रह जाएंगी हैरान, वायरल हुआ 'गली बॉय' का टिक टॉक

जिला कलेक्ट्रेट के एक अधिकारी ने बताया कि गन्ने, गेहूं और अंगूर पर जमी ओस की बूंदों के चलते किसानों को अपनी फसलों को खराब होने से बचाने के लिए अलाव जलाना पड़ा. अधिकारी ने बताया कि अगले दो से तीन दिनों तक जिले में ठंड और शीतलहर की स्थिति बने रहने का अनुमान है. बता दें नासिक के निफाड में भी शनिवार को पारा 0 डिग्री तक पहुंच गया था, जिससे पुदीने की फसल को काफी नुकसान हुआ है. ठंड का आलम कुछ यूं है कि पूरे खेतों में बर्फ के कण दिखाई दे रहे हैं, जिससे फसलों को काफी नुकसान हुआ है.