close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

जयपुर: प्रशासनिक सुधार टीम ने फिर की सचिवालय में कार्रवाई, 151 अधिकारी अनुपस्थित

19 नवंबर 2009 के बाद प्रशासनिक सुधार विभाग की यह सचिवालय में बड़ी कार्यवाही है. हालांकि, सचिवालय के कई अधिकारी इसे गंभीरता से नहीं ले रहे हैं. 

जयपुर: प्रशासनिक सुधार टीम ने फिर की सचिवालय में कार्रवाई, 151 अधिकारी अनुपस्थित
अराजपत्रित अधिकारियों की बात की जाए तो 1905 में से 151 गैरहाजिर रहे.

भरत राज/जयपुर: सचिवालय कर्मचारियों की लेटलतीफी आदत लगातार जारी है. तीसरे दिन भी आज प्रशासनिक सुधार विभाग की टीम ने सचिवालय में औचक निरीक्षण किया और सभी विभागों से 301 रजिस्टर ज़ब्त किए गए. कर्मचारियों की अनुपस्थिति देखी गई तो 17% गजटेड और 8% सचिवालय कर्मचारी अनुपस्थित पाए गए. 

वहीं, लगातार सचिवालय कर्मचारियों की अनुपस्थिति को देखकर प्रशासनिक सुधार विभाग प्रमुख सचिव आर वेंकटेश्वरन ने नाराजगी जताई है और कहा कि औचक निरीक्षण जारी रखा जाए. प्रशासनिक सुधार विभाग की टीम ने सुबह 9:40 पर विभागों से हाजिरी रजिस्टर जप्त करना शुरू कर दिया

साथ ही, प्रशासनिक सुधार विभाग की टीम की कार्रवाई कि सूचना मिलने पर कर्मचारी विभागों में दौड़ते नजर आए. प्रशासनिक सुधार विभाग सहायक सचिव अनिल चतुर्वेदी ने बताया कि 907 राजपत्रित अधिकारियों में से आज भी 151 अधिकारी अनुपस्थित रहे. वहीं, अराजपत्रित अधिकारियों की बात की जाए तो 1905 में से 151 गैरहाजिर रहे. सभी अनुपस्थित रहने वाले कर्मचारियों की सूचना विभागों को भिजवाई जाएगी उसके बाद उन्हें नोटिस जारी कर स्पष्टीकरण पूछा जाएगा. 

19 नवंबर 2009 के बाद प्रशासनिक सुधार विभाग की यह सचिवालय में बड़ी कार्यवाही है. हालांकि, सचिवालय के कई अधिकारी इसे गंभीरता से नहीं ले रहे हैं. वह इसे अभी भी रुटीन कार्रवाई मान अपने ढर्रे पर काबिज है. प्रशासनिक सुधार विभाग की ओर से की जा रही कार्रवाई को लेकर सवाल भी उठने लगे हैं कि यह कार्रवाई कहीं फॉर्मेलिटी साबित होकर नहीं रह जाए. 

सचिवालय में लाखों रुपए खर्च कर थंब मशीन लगाई गई थी. जिस पर कर्मचारियों को आते और जाते समय पंच करना होता था लेकिन अधिकारियों ने भी इस मशीन को चालू करने में रुचि नहीं दिखाई. लाखों रुपए से लगी मशीनें आज भी सचिवालय के गेटों पर धूल फांक रही है. विभिन्न विभागों में पंच लगाने की बात करने वाले अधिकारी सचिवालय में ही यह सिस्टम लागू नहीं कर पाए.