close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

राजस्थान में बारिश ने तोड़े कई रिकॉर्ड, कोटा संभाग में हुई सबसे ज्यादा बरसात

राजस्थान में जहां औसत बारिश करीब 530 एमएम तक दर्ज की जाती है. वहीं, इस साल राजस्थान में अभी तक 728 एमएम से ज्यादा बारिश दर्ज हो चुकी है.

राजस्थान में बारिश ने तोड़े कई रिकॉर्ड, कोटा संभाग में हुई सबसे ज्यादा बरसात
पिछले दिनों कोटा संभाग में भारी बारिश ने तबाही मचाई थी.

जयपुर: 1 जून से 30 सितम्बर तक रहने वाले मानसून सीजन को विदा होने में अभी 10 दिनों का समय शेष है, लेकिन उससे पहले ये मासनून अपने कई रंग दिखा रहा है, मिनटों में कभी भीषण गर्मी तो अगले ही पल तेज तूफान के साथ हो रही बारिश में लोग अब सामंजस्य बैठाने में काफी परेशानी का सामना कर रहे हैं, हालांकि, इस साल प्रदेश में झमाझम बारिश का ऐसा दौर रहा कि बारिश ने अपने पिछले साल के कई रिकॉर्ड तोड़ दिए है.

राजस्थान में इस साल अगस्त में हुई झमाझम बारिश के बाद हालांकि सितम्बर के महीने में प्रदेश के कुछ ही जिलों में बारिश की मेहरबानी रही. लेकिन उसके बाद भी समय-समय पर बदले मौसम ने लोगों को जमकर भिगोया. मानसून सीजन में राजस्थान में जहां औसत बारिश करीब 530 एमएम तक दर्ज की जाती है. वहीं इस साल राजस्थान में अभी तक 728 एमएम से ज्यादा बारिश दर्ज हो चुकी है.

पिछले दिनों कोटा संभाग में भारी बारिश ने तबाही मचाई थी. इस दौरान कोटा, बारां, बूंदी, झालावाड़ में भारी बारिश ने बाढ़ के हालात पैदा कर दिए. लेकिन उसके बाद से ही मानसून फिर से कमजोर पड़ गया है. इस दौरान हालांकि कुछ हिस्सों में हल्की से तेज बारिश दर्ज की गई.

वहीं, दो दिन पहले राजधानी जयपुर में तेज हवाओं के साथ मुसलाधार बारिश हुई. जिससे जनजीवन अस्त-व्यस्त हो गया, लेकिन बीते 24 घंटों से प्रदेश में मानसून पूरी तरह से कमजोर बना हुआ है. जिसके बाद एक बार फिर से दिन और रात के तापमान में बढ़ोतरी दर्ज होने लगी है.

प्रदेश में दिन के साथ ही रात के तापमान में भी अब बढ़ोतरी दर्ज होने लगी है. बीते 24 घंटों में रात के तापमान में करी 2 से 3 डिग्री बढ़ोतरी होने के चलते अब गर्मी और उमस लोगों के पसीने छूड़ा रही है.

हालांकि मौसम विभाग ने अगले एक सप्ताह तक मौसम में बदलाव के संकेत दिए हैं. मौसम विभाग की अगर मानी जाए तो जयपुर सहित एक दर्जन जिलों में एक बार मानसून फिर से सक्रिय होने के साथ कई जिलों में भारी बारिश की भी संभावना जताई गई है.