close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

साध्वी प्रज्ञा ठाकुर के बयान पर बोलीं महबूबा मुफ्ती, 'देश के लिए सबसे बुरे दिन'

प्रज्ञा ठाकुर ने शुक्रवार को कहा था कि करकरे ने उन्हें बुरी तरह प्रताड़ित किया था इसलिए उनके दिये श्राप की वजह से वह 26-11 के आतंकी हमलों के दौरान मारे गए थे.

साध्वी प्रज्ञा ठाकुर के बयान पर बोलीं महबूबा मुफ्ती, 'देश के लिए सबसे बुरे दिन'
(फाइल फोटो)

श्रीनगर: भोपाल लोकसभा क्षेत्र से बीजेपी की उम्मीदवार साध्वी प्रज्ञा सिंह ठाकुर के पूर्व एटीएस प्रमुख हेमंत करकरे को लेकर दिए बयान पर प्रतिक्रिया देते हुए जम्मू कश्मीर की पूर्व मुख्यमंत्री महबूबा मुफ्ती ने शुक्रवार को कहा, ‘ये देश के लिए सबसे बुरे दिन हैं.’ बता दें प्रज्ञा 2008 के मालेगांव विस्फोट मामले की आरोपी भी हैं. 

महबूबा ने कहा,‘मुझे लगता है कि ये हमारे देश के लिए सबसे बुरे दिन हैं कि आप हेमंत करकरे जैसे शहीद के खिलाफ ऐसी भाषा का इस्तेमाल करने वालों को उम्मीदवार बना रहे हैं.’ महबूबा ने कहा कि बीजेपी ठाकुर जैसी उम्मीदवार को खड़ा करके देश की जनता को क्या संदेश देना चाहती है. 

क्या कहा है प्रज्ञा ने?
बता दें प्रज्ञा ठाकुर ने शुक्रवार को कहा था कि करकरे ने उन्हें बुरी तरह प्रताड़ित किया था इसलिए उनके दिये श्राप की वजह से वह 26-11 के आतंकी हमलों के दौरान मारे गए थे. बीजेपी ने बुधवार को साध्वी प्रज्ञा को भोपाल से अपना उम्मीदवार बनाया है. उनका मुकाबला कांग्रेस के वरिष्ठ नेता और पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह के साथ है.

महबूबा मुफ्ती ने भारत और पाकिस्तान के बीच एलओसी के आरपार व्यापार के निलंबन को भी बड़ा झटका करार दिया.  उन्होंने कहा, 'यह एक बहुत बड़ा झटका है। (पूर्व पीएम अटल बिहारी) वाजपेयी ने जो भी काम किया थे , लगता है कि मोदी वह सब खत्म करना चाहते हैं।' 

पूर्व मुख्यमंत्री ने कहा कि यह विडंबना है कि क्रॉस-एलओसी व्यापार को निलंबित करने का निर्णय उसी दिन लिया गया था जब वाजपेयी ने 2003 में कश्मीर का दौरा किया था और पाकिस्तान से दोस्ती का हाथ बढ़ाया था।

महबूबा मुफ्ती ने कहा, 'मुझे लगता है कि यह बहुत दुर्भाग्यपूर्ण है, बहुत दुखता है, क्योंकि यही दिन था जब वाजपेयी कश्मीर आए थे और उन्होंने पाकिस्तान के साथ दोस्ती का हाथ बढ़ाया था और कहा था कि वह मानवता के दायरे में कश्मीर मुद्दे को हल करेंगे।' 

उन्होंने कहा, 'मुजफ्फराबाद सड़क की शुरुआत वाजपेयी ने की थी। ऐसा लगता है कि हम आगे बढ़ने के बजाय पीछे जा रहे हैं क्योंकि जम्मू-कश्मीर मुद्दे का हल केवल यही है कि सभी मार्गों को फिर खोला जाए'. 

(इनपुट - भाषा)