close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

स्कूल में ही पढ़ाई छोड़ देने वाला शख्स खुद को बताता था मेजर, 50 महिलाओं को दिया धोखा

पुलिस के अनुसार जूलियन सिन्हा उर्फ सिद्धार्थ मेहरा नाम का ये अपराधी खुद स्कूल की पढ़ाई भी पूरी नहीं कर पाया है, लेकिन वह फर्राटेदार इंग्लिश बोलता है. मेट्रिमोनियल साइट पर अपनी तस्वीरें डालकर ये महिलाओं को ठगता था.

स्कूल में ही पढ़ाई छोड़ देने वाला शख्स खुद को बताता था मेजर, 50 महिलाओं को दिया धोखा

अहमदाबाद : गुजरात के अहमदाबाद से महिलाओं के साथ धोखाधड़ी का बड़ा और हाईप्रोफाइल मामला सामने आया है. रिटायर्ड कर्नल के बेटे ने मेट्रीमोनियल साइट पर खुद के बारे में झूठी जानकारी देकर 25 राज्यों की 50 से ज्यादा महिलाओं को धोखा दिया है. पुलिस के अनुसार जूलियन सिन्हा उर्फ सिद्धार्थ मेहरा नाम का ये अपराधी खुद स्कूल की पढ़ाई भी पूरी नहीं कर पाया है, लेकिन वह फर्राटेदार इंग्लिश बोलता है. मेट्रिमोनियल साइट पर अपनी तस्वीरें डालकर ये महिलाओं को ठगता था.

अहमदाबाद में डीसीपी साइबर सेल राजदीप सिंह झाला ने बताया कि 42 साल का सिद्धार्थ मेहरा खुद को आर्मी में मेजर के पोस्ट पर बताता था. इसके बाद वह लड़कियों, महिलाओं को अपनी बातों में फंसाकर उन्हें धोखा देता था. एक बड़े एक्सीडेंट में सिद्धार्थ के दोनों पैर में फैक्चर हो गया था. इसके बाद उसके दोनों पैरों में रोड डालनी पड़ी थी. इस कारण वह ठीक ढंग से चल भी नहीं पाता है.

परीक्षा का सवाल: अनशन पर बैठे हार्दिक पटेल को किस नेता ने पानी पिलाने की पेशकश की? ये हैं विकल्प

साइबर सेल के इंचार्ज एसीपी जेएस गेद्दाम ने कहा, सिद्धार्थ के खिलाफ एक ऐसी लड़की ने शिकायत दर्ज कराई थी, जिसे उसने धोखा दिया था. उसने उसे भी खुद को मेजर बताया था. सिद्धार्थ ने उसे प्रपोज किया, इसके बाद दोनों बीच चैटिंग शुरू हो गई. इसके बाद सिद्धार्थ ने लड़की से जनवरी 2018 में 50 हजार रुपए मांगे. उसने कहा, आर्मी हाउसिंग स्कीम के तहत वह एक घर घरीदना चाहता है. लड़की ने उसकी बातों में आकर उसे पैसे दे दिए. इसके बाद सिद्धार्थ ने उसे वह पैसे नहीं लौटाए और उससे सभी कॉन्टेक्ट भी खत्म कर लिए.

इसके बाद लड़की ने उसकी शिकायत कर दी. अहमदाबाद की साइबर सेल ने उसके मोबाइल फोन के आधार पर उसके बारे में जानकारी जुटाई. उसकी लोकेशन अहमदाबाद के चांदखेड़ा में मिली. इसके बाद उसे वहां से गिरफ्तार कर लिया गया.