close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

बारां जिले में मूसलाधार बारिश से मचा हाहाकार, जनजीवन प्रभावित

नदियों के उफान के कारण कई गांव टापू बन गए हैं. यहां तक कि कई हाइवे बंद हो गए हैं. 

बारां जिले में मूसलाधार बारिश से मचा हाहाकार, जनजीवन प्रभावित
भारी बरसात के कारण नदियों ने रूद्र रूप ले लिया है.

राम मेहता/बारां: राजस्थान के बारां जिले भर में बरसात से हाहाकर मचा हुआ है, जिससें जनजीवन बुरी तरह से प्रभावित हो रहा है. नदियों के उफान के कारण कई गांव टापू बन गए हैं. यहां तक कि कई हाइवें अवरूद्ध हैं. वहीं लोगों के साथ जानवरों के लिए आफत बना हुआ है. इधर प्रशासन ने अलर्ट जारी कर लोगों को सावधान रहने की चेतावनी दे दी है.

वहीं, बारां जिले में हो रही बरसात से कल शाम सीसवाली कस्बें के पास एक उफनती पुलिया पार करने के दौरान एक पिता दो बच्चों के साथ बह गया. जिसकी मौके पर मौजूद लोगों ने नदी में कूद कर इन दिनों की जान बचाई. ग्रामीणों को कहना है की गांव में जानें का रास्ता नहीं होने के कारण पुलिया पार करने के दौरान एक पिता के साथ दो बच्चें बह गए, जिन्हें लोगों ने मदद कर बचा लिया. गांव में जाने का कोई और रास्ता नहीं है. 

साथ ही यह बारिश मवेशियों के लिए भी आफत बनी हुई है. पुलिया पार करने के दौरान मवेशी तिनके की तरह से बह रहे हैं. केलवाड़ा के पास आधा दर्जन पशु नदी में बह गए जो बाद में बड़ी मुश्किल से किनारे पर आए और इनकी जान बची. वहीं, केलवाडा के पास ही सरकारी छात्रावास में अंदर पानी घुसा हुआ है. नदी नालें उफान के कारण कारण कई मार्ग बंद पड़े है और पुलिया पर पुलिस ने तैनाती कर रखी है.

केलवाडा थाना प्रभारी का कहना है कि पुलिया पर लोग रास्ता पार ना करें इसके लिए पुलिस गश्त बढ़ाया गया है. बारां से सांगोद मार्ग पर भी एक बस नदी में फंस गई जिसके बाद 35 यात्रियों की सांस अटक गई. हालांकि बाद में पुलिस और ग्रामीणों की मदद से बस के यात्रियों का रेस्क्यू कर सुरक्षित बाहर निकाला गया.

वहीं, भारी बरसात  के कारण नदियों ने रूद्र रूप ले लिया है. राजस्थान से मध्यप्रदेश को जोडने वालें 30-30 फिट उची बारां की पुलिया, बारां-छबडा मार्ग, बारां-झालावाड़ मार्ग की पुलिया पानी में डूबी गई है, जिससें आवामान ठप हो गया है.