close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

महाराष्ट्र: विधानसभा चुनाव से पहले NCP को झटका, दिग्गज नेता उदयनराजे भोसले BJP में हुए शामिल

सतारा में NCP से तीन बार के सांसद उदयनराजे पी. भोसले छत्रपति शिवाजी महाराज के वंशज हैं. 

महाराष्ट्र: विधानसभा चुनाव से पहले NCP को झटका, दिग्गज नेता उदयनराजे भोसले BJP में हुए शामिल
बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह की मौजूदगी में उदयनराजे भोसले बीजेपी में शामिल हुए (फाोटो साभार - ANI)

नई दिल्ली: महाराष्ट्र (Maharashtra) की राजनीति में बड़ा नाम और एनसीपी (NCP) नेता उदयनराजे भोसले बीजेपी (BJP) में शामिल हो गए हैं. बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह की मौजूदगी में उदयनराजने बीजेपी में शामिल हुए. इस मौके पर महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस भी मौजूद थे. 

सतारा से तीन बार के सांसद उदयनराजे भोसले छत्रपति शिवाजी महाराज के वंशज हैं. उन्होंने 2009, 2014, और 2019 लोकसभा चुनाव सतारा सीट से जीते हैं. राजे के बीजेपी में शामिल होने को मराठा वोट बैंक को अपनी तरफ खींचने की पार्टी की कोशिशों से जोड़कर देखा जा रहा है.  

उदयनराजे भोसले के बीजेपी में आने से पार्टी को मराठा वोट बैंक को साधने के लिए एक और मौका मिला है. इससे पहले मराठा समाज को आरक्षण देकर बीजेपी की फडणवीस सरकार ने अहम राजनैतिक दांव चला था. अब छत्रपती के वंशज उदयनराजे भोसले भी बीजेपी के साथ आए है.

उदयन राजे भोसले 1995 में बीजेपी के विधायक भी रहे है और 1995 में बनी महाराष्ट्र की बीजेपी -शिवसेना सरकार में राज्यमंत्री भी रह चुके है.

बता दें महाराष्ट्र (Maharashtra) में कांग्रेस (Congress) और एनसीपी (NCP) के नेताओं का पार्टी छोड़ बीजेपी (BJP) और शिवसेना (Shiv Sena) में जाने का सिलसिला लगाता जारी है. बुधवार को पश्चिम महाराष्ट्र के कांग्रेस नेता हर्षवर्धन पाटिल (Harshvardhan Patil) और शरद पवार (Sharad Pawar) के बेहद करीबी पूर्व मंत्री गणेश नाइक (Ganesh Naik) ने पार्टी छोड़कर बीजेपी का दामन थाम लिया. 

कांग्रेस के नेता पूर्व मंत्री कृपाशंकर सिंह और उर्मिला मातोंडकर (Urmila Matondkar) पहले ही कांग्रेस को अलविदा कह चुके हैं. सूबे में विधानसभा चुनाव (Assembly Election) सिर पर हैं और कांग्रेस और एनसीपी जैसे दलों से पार्टी छोड़ने वाले नेताओं की कतार लगी हुई है. सत्तारुढ़ दलों का दावा है कि विपक्ष के पचास से ज्यादा विधायक सत्तारुढ़ दलों को चुनाव से पहले ज्वाइन कर लेंगे.