स्वार्थ के चलते शिवसेना ने 30 साल की दोस्ती तोड़ी: रविशंकर प्रसाद

बीजेपी के वरिष्ठ नेता ने कहा कि महाराष्ट्र में बीजेपी ने बिना घोटाले के 5 साल सरकार चलाई.

स्वार्थ के चलते शिवसेना ने 30 साल की दोस्ती तोड़ी: रविशंकर प्रसाद

नई दिल्ली: महाराष्ट्र के सियासी उलटफेर पर केंद्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद (Ravi Shankar Prasad) ने शनिवार को यहां सवाल किया कि शिवसेना ने 30 साल पुरानी दोस्ती तोड़ी तब लोकतंत्र की हत्या नहीं हुई? जब अजित पवार के नेतृत्व में बड़ा तबका आकर देवेंद्र फडणवीस को समर्थन दे तो क्या लोकतंत्र की हत्या हो गई? प्रसाद ने महाराष्ट्र में सरकार गठन को लेकर तेजी के साथ बदले घटनाक्रम पर बीजेपी की ओर से विपक्ष के हर आरोप का जवाब दिया.

कानून मंत्री रविशंकर ने कहा कि मुंबई भारत की वित्तीय राजधानी है और महाराष्ट्र एक बड़ा राज्य है. एनसीपी-शिवसेना-कांग्रेस समझौता करके चोर दरवाजे के माध्यम से मुंबई पर कब्जा करने की साजिश कर रहे थे. बीजेपी शिवसेना गठबंधन को जनादेश मिला था. महाराष्ट्र में शिवसेना को जिताने में बीजेपी का भी सहयोग था. शिवसेना को लेकर बीजेपी नेता ने कहा कि बालासाहेब की विचारधारा भुला दी, उनपर कुछ नहीं कहूंगा.

संजय राउत का दिया जवाब
केंद्रीय मंत्री ने कहा, ''कुछ लोग छत्रपति शिवाजी की विरासत की बात कर रहे हैं, उनसे मैं बस इतना कहूंगा कि सत्ता के लिए अपने विचारों से समझौता करने वाले तो कम से कम छत्रपति शिवाजी की बात न करें.'' दरसअल, महाराष्ट्र की राजनीति में अचानक हुए बदलाव से स्तब्ध शिवसेना सांसद संजय राउत ने आरोप लगाया था कि राज्य के नए उप-मुख्यमंत्री अजीत पवार ने राज्य के लोगों और छत्रपति शिवाजी की पीठ पर वार किया है.

राज्यपाल ने तीनों पार्टियों को बुलाया
रविशंकर प्रसाद बोले कि राज्यपाल ने तीनों पार्टियों को बुलाया था. NCP और शिवसेना को बुलाया तो उन्होंने कहा कि और समय दीजिए. आज सुबह भाजपा और अजीत पवार जी के साथ NCP के तबके ने आवेदन दिया कि हमारे पास बहुमत है. क्या शिवसेना और NCP का कोई आवेदन राज्यपाल के पास अब तक था?

उन्होंने कहा कि चुनाव प्रचार के दौरान देवेंद्र फड़नवीस के नाम को महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री के रूप में पेश किया गया था. भाजपा के समर्थन और देवेंद्र फडणवीस के सीएम बनने की संभावना ने शिवसेना उम्मीदवारों की सफलता में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई.

उल्लेखनीय है कि शनिवार सुबह देवेंद्र फडणवीस ने मुख्यमंत्री और राकांपा के अजीत पवार ने उपमुख्यमंत्री के रूप में शपथ ले ली. इस घटना के बाद विपक्षी शिवसेना, राकांपा और कांग्रेस की तरफ से भाजपा पर हमले किए जा रहे हैं.

क्रिकेट और राजनीति में कुछ भी संभव
महाराष्ट्र में सरकार गठन को लेकर मोदी सरकार में केंद्रीय परिवहन मंत्री नितिन गडकरी बोले, ''मैंने पहले कहा था कि क्रिकेट और राजनीति में कुछ भी हो सकता है, अब आप समझ सकते हैं कि मेरा क्या मतलब था''

शिवसेना का रास्ता विश्वासघात का था
सूचना एवं प्रसारण मंत्री प्रकाश जावडेकर ने कहा, ''बीजेपी के नेता देवेंद्र फडणवीस के नेतृत्व में नई सरकार बनी है. मैं स्वागत करता हुं. आज उठापठक खत्म हो गई. शिवसेना का रास्ता विश्वासघात का था. महायुति को वोट मिला था जबकि शिवसेना उसकी खिलाफत करके पाप करना चाहती थी. आज का घटनाक्रम मायने रखता है. जिस कांग्रेस ने राम मंदिर और सावरकर का भी विरोध किया, शिवसेना उसके साथ जा रही थी. यह तो अजीब बात है कि एनसीपी यदि शिवसेना के साथ जाए तो सही और अगर हमारे (BJP) के साथ जाती है तो गलत है.''