सफाई के लिए वडोदरा में अनूठी पहल, गंदगी करने वाले पर लगता है भारी जुर्माना

प्रधानमंत्री मोदी के स्वच्छ भारत के अभियान को गुजरात के वडोदरा के एक गांव ने सच कर दिखाया है

सफाई के लिए वडोदरा में अनूठी पहल, गंदगी करने वाले पर लगता है भारी जुर्माना
स्वच्छता को लेकर वडोदरा जिले की एक ग्राम पंचायत ने कड़क कानून बनाए हैं

रवि अग्रवाल/नियति त्रिवेदी, वडोदरा: प्रधानमंत्री मोदी के स्वच्छ भारत अभियान को गुजरात के वडोदरा के एक गांव ने सच कर दिखाया है. आपको बता दें कि स्वच्छता को लेकर वडोदरा जिले की एक ग्राम पंचायत ने कड़क कानून बनाए हैं. जिसके बाद गांव के लोग गंदगी करने से डरने लगे हैं. जानकारी के मुताबिक गंदगी करने वालों से पंचायत 500 रुपये से लेकर 50 हजार तक का जुर्माना वसूल करती है. जिस वजह से गांव पूरी तरह से स्वच्छ नजर आने लगा है.

गुजरात के वडोदरा जिले के भायली ग्राम पंचायत ने गांव में गंदगी करने वाले लोगों से 500 से लेकर 50 हजार रुपये का जुर्माना वसूल करने का निर्णय किया है. जिसके आधार पर गंदगी करने वाले 70 लोगों के पास से 70 हजार रुपयों का जुर्माना वसूल किया गया है. इसके अलावा गांव के जो लोग यह जुर्माना नहीं भरते हैं उनको ब्लैक लिस्ट किया जा रहा है. इस बारे में गांव के सरपंच दर्पण पटेल ने कहा कि गांव को साल 2020 तक जीरो वेस्ट बनाने का उनका लक्ष्य है.

आपको यह भी बता दें कि भायली ग्राम पंचायत को स्वच्छ करने के लिए कई सुविधा भी गांव में मौजूद हैं जैसे कि प्रतिदिन गांव में तीन बार साफ-सफाई की जाती है. सफाई के काम में लगे लोगों के बीच आपसी संवाद के लिए वॉकी-टॉकी का इस्तेमाल किया जाता है. कचरा डालने के लिए डस्टबिन रखी गई हैं. घर से कचरा ले जाने के लिए ऑन कॉल सुविधा है. जीपीएस सिस्टम वाला कचरे का वाहन है. गांव में कचरा उठाने के लिए कुल 4 वाहन रखे गए हैं. जानकारी के मुताबिक गांव के बजट का 60% सफाई के पीछे इस्तेमाल किया जा रहा है. इसके लिए 85 सफाई कर्मचारी भी रखे गए हैं.

पंचायत के इस नियम से गांव के लोग काफी खुश हैं. सारे गांव के लोग इस बात की तस्दीक करते हैं कि उनके गांव में साफ-सफाई हो रही है. पंचायत के इस नियम के पहले गांव में काफी गंदगी थी लोग घर से रास्ते पर पानी डालते थे. 26 हजार की आबादी वाला यह भायली गांव पंचायत के इस नियम के बाद काफी स्वच्छ बन गया है. इसके साथ ही भायली गांव के रास्ते भी चमक रहे हैं.