केंद्र सरकार ने कहा, 'अगस्त से नवंबर के बीच LOC पर संघर्ष विराम के 950 मामले'

गृह मंत्रालय ने कहा कि कि सीजफायर उल्लंघन के मामलों में सुरक्षा बलों द्वारा तत्काल और प्रभावी जवाबी कार्रवाई की जाती है.

केंद्र सरकार ने कहा, 'अगस्त से नवंबर के बीच LOC पर संघर्ष विराम के 950 मामले'
(प्रतीकात्मक फोटो)

नई दिल्ली: इस साल अगस्त और नवंबर के बीच सीमा पार से नियंत्रण रेखा (LoC) पर संघर्ष विराम उल्लंघन (Ceasefire Violation) की 950 घटनाएं घटी है. गृह मंत्रालय (home ministry) ने सोमवार को लोकसभा में यह जानकारी दी. 

गृहमंत्रालय ने कहा कि कि सीजफायर उल्लंघन के मामलों में सुरक्षा बलों द्वारा तत्काल और प्रभावी जवाबी कार्रवाई की जाती है.

पत्थरबाजी के 190 मामले
गृहमंत्रालय ने लोकसभा को जानकारी दी कि  5 अगस्त से 15 नवंबर 2019 तक पत्थरबाजी के 190 मामले दर्ज किए गए और 765 लोगों को गिरफ्तार किया गया. वहीं इस साल की शुरुआत से 04 अगस्त तक पत्थरबाज़ी के 361 मामले दर्ज किए गए थे.

गृहमंत्रालय ने कहा कि सरकार ने पत्थरबाजी को रोकने के लिए सरकार ने बहुस्तरीय नीति शुरु की है. बड़ी संख्या में परेशानी पैदा करने वालों, भड़काने वालों, भीड़ इकट्ठा करने वालों की पहचान की गई है और उनके खिलाफ विभिन्न एहतियाती उपाय किए गए हैं. जांच से यह पता चला है कि कश्मीर घाटी में पत्थरबाजी की घटनाओं में हुर्रियत से जुड़े विभिन्न अलगाववादी संगठन और कार्यकर्ता शामिल रहे हैं. NIA ने अब तक आतंकी फंडिंग के मामलों में 18 व्यक्तियों को गिरफ्तार किया है.