close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

नदी में टॉयलेट करने गया था युवक, आ गया उफान और फिर...

पीड़ित आदमी को बचाने के लिए प्रशासन को बांध के दरवाजों को बंद कराना पड़ा. 

नदी में टॉयलेट करने गया था युवक, आ गया उफान और फिर...
बताया जा रहा है कि मधुबन बांध के आठ दरवाजों को 1.5 मीटर खोला गया था.(प्रतीकात्मक तस्वीर)

नई दिल्ली: मुसीबतें कभी बताकर नहीं आती. कभी-कभी तो कुछ ऐसी मुसीबतें होती है, जिसमें हम इस कदर फंस जाते है कि चाहकर भी खुद की सुरक्षा नहीं कर पाते. कुछ इस तरह की मुसीबतों का सामना संघ प्रदेश दादरा नगर हवेली के रखोली गांव के सुरेश को करना पड़ा जो शौच क्रिया के लिए नदी के तट पर गए थे. लेकिन नदी में उफान के आने से उन्हें एक अलग तरह की मुसीबतों का सामना करना पड़ा. प्रशासन के सहयोग से सुरेश को सुरक्षित नदी से बाहर निकाला गया. संघ प्रदेश दादरा नगर हवेली के रखोली गांव की घटना खुले में शौच से मुक्त भारत को लेकर तमाम सवाल उठा रही है.

बीते शनिवार रखोली गांव में एक अलग दृश्य देखने को मिला. जहां पर दमण गंगा नदी में अचानक आए उफान में एक आदमी फंस गया. जो नदी के तट पर शौच के लिए गया था. बताया जा रहा है कि मधुबन बांध के आठ दरवाजों को 1.5 मीटर खोला गया था. दरवाजा खोलते ही पानी का बहाव नदी में तेज हो गया और उसी ऊफान में शौच के लिए गया आदमी फंस गया.

Image result for river zee news

पीड़ित आदमी को बचाने के लिए प्रशासन को बांध के दरवाजों को बंद कराना पड़ा. कोस्ट गार्ड से हेलिकॉप्टर के लिए भी गुहार भी लगाई गई. प्रशासन और वहां के स्थानीय निवासियों के सहयोग से 2 घंटे के ऑपरेशन के बाद पीड़ित को बचाया जा सका. इस ऑपरेशन के लिए पुलिस, फायर ब्रिगेड, डिजास्टर मैनेजमेंट, सहित एजेंसियों का भी सहारा लिया गया.

दो घंटे के मशक्कत के बाद पीड़ित को को सुरक्षित बाहर निकाला गया. हालांकि इस ऑपरेशन में हेलिकॉप्टर की जरूरत नहीं पड़ी. जहां एक तरफ पूरे भारत में खुले में शौच से मुक्त करने का अभियान चलाया गया जा रहा है. वहीं इस घटना ने खुले में शौच के अभियान को लेकर बहुत सारे सवाल खड़े कर दिए हैं.