close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

केंद्र ने सुप्रीम कोर्ट से कहा - दिल्ली-NCR में वायु प्रदूषण की मुख्य वजह पराली जलाना

पर्यावरण मंत्रालय ने हलफनामे में कहा कि पराली जलाने से रोकने के लिए कई कदम उठाए गए हैं.  

केंद्र ने सुप्रीम कोर्ट से कहा - दिल्ली-NCR में वायु प्रदूषण की मुख्य वजह पराली जलाना
केंद्र सरकार ने कहा कि दिल्ली के पड़ोसी राज्यों में 2016-18 के बीच पराली जलाने में 41 फ़ीसदी कमी हुई है.

नई दिल्ली: केंद्र सरकार ने पराली जलाने को लेकर सुप्रीम कोर्ट में हलफनामा दाखिल किया है. केंद्र सरकार ने हलफनामे में माना कि दिल्ली-NCR में वायु प्रदूषण की मुख्य वजह पराली जलाना है. केंद्र सरकार ने कहा कि दिल्ली के पड़ोसी राज्यों में 2016-18 के बीच पराली जलाने में 41 फ़ीसदी कमी हुई है. पर्यावरण मंत्रालय ने हलफनामे में कहा कि पराली जलाने से रोकने के लिए कई कदम उठाए गए हैं.  उधर, दिल्ली में सरकारी दफ्तर का समय बदला गया है. सीएम ने कहा कि ऑड-ईवन के दौरान सरकारी दफ्तर सुबह साढ़े नौ बजे खुलेंगे. कुछ दफ्तर साढ़े द्स बजे खुलेंगे. प्राइवेट दफ्तरों को कोई आदेश नहीं है. 

स्कूलों की 5 नवंबर तक छुट्टी
दिल्ली-NCR में ज़हरीली हवा हो गई है. दिल्ली में प्रदूषण वाली इमरजेंसी लग गई है. प्रदूषण की वजह से हालात बेकाबू हो चुके हैं. कई इलाको में हवा इतनी जहरीली हो गई कि सांस लेना दूभर हो गया है. दिल्ली में AQI यानी एयर क्वालिटी इंडेक्स 500 से 700 के बीच पहुंच गया है. इस बीच दिल्ली सरकार ने सभी स्कूलों को 5 नवंबर तक बंद रखने के आदेश जारी किए हैं.  

धुएं और धुंध में लिपटी दिल्ली का दम घुट रहा है. आसमान में जहरीले धुएं की चादर तनी हुई है. राजधानी दिल्ली गैस चैंबर में तब्दील हो गई है. हालात इतने ख़राब हो गए हैं कि दिल्ली में हेल्थ इमरजेंसी लग गई है. पर्यावरण प्रदूषण रोकथाम और नियंत्रण प्राधिकरण यानी EPCA ने दिल्ली में पब्लिक हेल्थ इमरजेंसी घोषित कर दी है। EPCA ने कहा है कि हम इसे एक जन-स्वास्थ्य आपातकाल की तरह ले रहे हैं, क्योंकि वायु-प्रदूषण का स्वास्थ्य पर बेहद गंभीर असर होगा, खासतौर से बच्चों की सेहत पर.

LIVE टीवी:

दिल्ली सख्त कदम को भी तैयार!
अरविंद केजरीवाल ने कहा कि हमें लोगों के स्वास्थ्य के चिंतित हैं. सख्त कदम की जरूरत पड़ेगी तो वह भी करेंगे. दिल्ली सरकार और दिल्ली के लोग पूरी तरह से EPCA, SC, NGT के साथ हैं. उनके साथ मिलकर अभी तक कई क़दम उठाए, और भी जितने क़दम उठाने की ज़रूरत पड़ेगी, हम वो सभी क़दम उठाएंगे. हम पूरी तरह से GRAP भी लागू करेंगे. आने वाले दिनों में GRAP के बारे में लोगों में अधिक जागरूकता भी करेंगे.