close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

सुप्रीम कोर्ट ने सरकार से पूछा, आखिर कब तक जम्मू-कश्मीर में प्रतिबंध लागू रखेंगे?

Supreme Court : सुप्रीम कोर्ट ने सरकार से कहा कि आप चाहें तो जम्मू-कश्मीर में स्थितियों की समीक्षा भी कर सकते हैं, लेकिन हमें बस एक तय समय की जानकारी दे दें.

सुप्रीम कोर्ट ने सरकार से पूछा, आखिर कब तक जम्मू-कश्मीर में प्रतिबंध लागू रखेंगे?

नई दिल्‍ली : सुप्रीम कोर्ट (Supreme court) ने केंद्र सरकार से जम्मू-कश्मीर (Jammu Kashmir) में लागू प्रतिबंधों को हटाने के संबंध में नोटिस जारी कर जवाब मांगा है. सुप्रीम कोर्ट ने केंद्र सरकार से पूछा है कि आखिर कब तक जम्मू-कश्मीर में प्रतिबंध लागू रहेंगे? सरकार हमें एक निश्चित समय सीमा बता दें. सुप्रीम कोर्ट ने सरकार से ये भी कहा है कि आप चाहें तो जम्मू-कश्मीर में स्थितियों की समीक्षा भी कर सकते हैं, लेकिन हमें बस एक तय समय की जानकारी दे दें. अब सुप्रीम कोर्ट 5 नवंबर से जम्मू-कश्मीर में लागू प्रतिबंधों के खिलाफ दायर याचिकाओं पर सुनवाई करेगा.

आपको बता दें प्रतिबंधों पर सुनवाई के अलावा, सुप्रीम कोर्ट में चीफ जस्टिस ऑफ इंडिया रंजन गोगोई की अध्यक्षता वाली 5 सदस्य वाली संवैधानिक पीठ 14 नवंबर से जम्मू-कश्मीर के स्पेशल स्टेटस से जुड़ी धारा 370 और 35A के केंद्र सरकार द्वारा निरस्त किए जाने वाले फैसले के खिलाफ और साल 2012 से लेकर 2018 तक जम्मू-कश्मीर से धारा 370 और 35A हटाने के लिए  दाखिल याचिकाओं की सुनवाई एक साथ करेगी. इससे पहले संवैधानिक पीठ 1 अक्टूबर से केवल जम्मू-कश्मीर से धारा 370 हटाने के फैसले के खिलाफ दायर याचिकाओं की सुनवाई करने वाली थी, लेकिन अब 14 नवंबर से दोनों तरफ की याचिकाओं की सुनवाई साथ-साथ होगी.

LIVE TV...

दरअसल, जम्मू-कश्मीर से 5 अगस्त 2019 को धारा 370 को निरस्त किया गया था. तभी से जम्मू-कश्मीर में लगातार प्रतिबंध लागू हैं. सरकार का कहना है कि जम्मू-कश्मीर में स्थितियां सुधरने के साथ सेना ने अलग-अलग इलाकों में छूट दी है. सरकार ने जम्मू-कश्मीर में 14 अक्टूबर 2019 के दिन दोपहर 12 बजे से पोस्टपेड फोन की सुविधाएं बहाल कर दी गईं थीं. जम्मू-कश्मीर में दोबारा टूरिस्ट के जाने के लिए अनुमति भी दे दी गई है. आज (24 अक्टूबर) जम्मू-कश्मीर में पंचायत के बीडीसी (BDC) इलेक्शन हो रहे हैं और वोटर्स घरों से निकलकर के चुनाव में भाग ले रहे हैं. जम्मू-कश्मीर में स्थितियां लगातार सुधर रहीं हैं.