कबाड़ से बनाई इलेक्ट्रिक बाइक, मशहूर कार कंपनी के मालिक भी हैरान; मीटिंग की जताई इच्छा

60 वर्षीय विष्णुभाई पटेल जन्म से दिव्यांग हैं और सुन भी नहीं सकते. कभी गेराज में काम भी नहीं किया. चौंकाने वाली बात तो ये है कि उन्होंने केवल कक्षा 5 तक की पढ़ाई की है.

कबाड़ से बनाई इलेक्ट्रिक बाइक, मशहूर कार कंपनी के मालिक भी हैरान; मीटिंग की जताई इच्छा

सूरत: कबाड़ से शानदार चीजें बनाने के अनेक किस्से सामने आ चुके हैं लेकिन सूरत के विष्णु पटेल ने जो कमाल किया है वो जानकर कई ऑटो इंजीनियर भी हैरान हैं. विष्णु पटेल ने कबाड़ में से इलेक्ट्रिक बाइक बनाई है. सबसे ख़ास बात यह है कि वे जन्म से ही दिव्यांग हैं और सुन भी नहीं सकते. जाने-माने उद्योगपति आनंद महेंद्रा  ने उनकी प्रशंसा की है और उनके जैसे अन्य लोगों को 1 करोड़ की मदद करने की इच्छा जताई है. महेंद्रा ने इस संबंध में एक ट्वीट भी किया है. उन्होंने विष्णुभाई को मिलने और उनके ख़ास वर्कशॉप की मुलाकात लेने की इच्छा जताई है. 

कई ऑटो सेक्टर के विशेषज्ञ बाइक बनाते हैं लेकिन सूरत के महीधरपुरा इलाके में रहते विष्णुभाई को लोग उनकी ख़ास बाइक के लिए जानते हैं जिसे उन्होंने खुद बनाया है. 60 वर्षीय विष्णुभाई पटेल जन्म से दिव्यांग हैं और सुन भी नहीं सकते. कभी गेराज में काम भी नहीं किया. चौंकाने वाली बात तो ये है कि उन्होंने केवल कक्षा 5 तक की पढ़ाई की है. नौकरी करके अपना गुजारा करने वाले विष्णुभाई जब रिटायर हुए तब उनके मन में विचार आया था कि अब वे घर बैठकर क्या करेंगे. उनके मन में इलेक्ट्रिक बाइक बनाने का ख्याल आया. 

3 इलेक्ट्रिक गाड़ियां बना चुके हैं विष्णुभाई
विष्णुभाई ने बिना किसी एडवांस टेक्नोलॉजी की मशीन के इस बाइक को तैयार किया है. इस बाइक में एक्टिवा और काइनेटिक स्कूटी के पार्ट्स का इस्तेमाल किया गया है. इतना ही नहीं बाइक के अंदर इस्तेमाल किए गए वायर और इलेक्ट्रिक पार्ट्स कबाड़ हो चुकी चीजों में से बीन-बीनकर बनाया गया है. उन्होंने लैपटॉप, मोबाइल और टीवी रिमोट के पार्ट्स बाइक बनाने में इस्तेमाल किए हैं. 3 इलेक्ट्रिक गाड़ियां बना चुके हैं. शनिवार को उद्योगपति आनंद महिंद्रा ने ट्वीट कर कहा था कि वे विष्णुभाई की स्टोरी से प्रभावित हुए हैं. वे उनके संपर्क में रहेंगे और देखेंगे कि उनके वर्कशॉप को आगे बढ़ाने में इन्वेस्ट कर पाएंगे या नहीं. 

विष्णुभाई को नहीं है ऑटोमोबाइल के क्षेत्र का कोई ज्ञान
इलेक्ट्रिक बाइक के अलावा, विष्णुभाई ने 6 से 7 बाइक भी मोडीफाई की हैं. इसके लिए उन्होंने कोई ख़ास ट्रेनिंग भी नहीं ली है. उन्हें ऑटोमोबाइल के क्षेत्र का कोई ज्ञान भी नहीं है और उन्होंने कभी इलेक्ट्रिक क्षेत्र में काम भी नहीं किया है. लेकिन फिर भी बाइक बनाकर उन्होंने लोगों को आश्चर्य में डाल दिया है. वे एक बार मथुरा गए थे जहां उन्होंने इलेक्ट्रिक बाइक देखी. उनके मन में ऐसी बाइक बनाने का विचार आया जिसे दिव्यांग भी चला सके. वे सुन नहीं सकते लेकिन उन्होंने यू-ट्यूब से देखकर सीखा और इम्प्लीमेंट किया.

दिव्यांग व्यक्ति परिवार के साथ घूम पाए, इसके लिए बैटरी 3 व्हीलर बाइक बनाई है जो एक ही बटन दबाने से रिवर्स भी जाती है. इसके आलावा, एक 60 किलो के वजन वाली 2 व्हीलर बाइक भी बनाई है और वो भी दिव्यांगों के लिए है. इसके अलावा 6 से 7 पेट्रोल बाइक को मोडिफाई किया है और इस बाइक को चलाने के लिए रविवार को ख़ास तौर पर बच्चे आते हैं. 

इलेक्ट्रिक बाइक बनाने वाले विष्णु भाई पटेल कहते है कि दिव्यांग और उनके परिवार के लिए कुछ करने की चाह ने मुझे रास्ता बताया. यू ट्यूब के सहारे मैंने काम शुरू किया. आर्थिक परिस्थिति को ध्यान में रखते हुए लैपटॉप मोबाइल और टीवी रिमोट के पार्ट्स जो भंगार थे, उन चीजों से काम शुरू किया और बाइक बनती गई. आज जाने माने उद्योगपति आनंद महेंद्र ने मेरे टैलेंट की तारीफ़ की है जिससे मुझे बहुत ख़ुशी हुई है.