21 अप्रैल को चीन दौरे पर रवाना होंगी सुषमा स्वराज, एससीओ की बैठक में लेंगी हिस्सा

वांग विदेश मंत्री के साथ-साथ स्टेट काउंसलर भी है. पिछले महीने वांग के स्टेट काउंसलर बनने के बाद सुषमा की उनसे यह पहली मुलाकात होगी. चीन के दौरे के बाद सुषमा मेगनोलिया जाएंगी.   

21 अप्रैल को चीन दौरे पर रवाना होंगी सुषमा स्वराज, एससीओ की बैठक में लेंगी हिस्सा
पिछले महीने वांग के स्टेट काउंसलर बनने के बाद सुषमा की उनसे यह पहली मुलाकात होगी. (फाइल फोटो)

बीजिंग : विदेश मंत्री सुषमा स्वराज शंघाई सहयोग संगठन (एससीओ) में विदेश मंत्रियों की बैठक में शामिल होने इस हफ्ते चीन आएंगी. इस दौरान वह चीन के अपने समकक्ष वांग यी से भी मुलाकात करेंगी. आधिकारिक सूत्रों के हवाले से मिल रही जानकारी के मुताबिक सुषमा 21 अप्रैल को चीन पहुंचेंगी. 22 अप्रैल को उनकी वांग से मुलाकात करने की उम्मीद है. एससीओ विदेश मंत्रियों की बैठक में वह 24 अप्रैल को शामिल होंगी. 

चीन के बाद मेगनोलिया का दौरा करेंगी सुषमा
वांग विदेश मंत्री के साथ-साथ स्टेट काउंसलर भी है. पिछले महीने वांग के स्टेट काउंसलर बनने के बाद सुषमा की उनसे यह पहली मुलाकात होगी. चीन के दौरे के बाद सुषमा मेगनोलिया जाएंगी. सुषमा और रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमण का चीन दौरा लगभग एक ही वक्त पड़ रहा है. सीतारमण 24 अप्रैल को एससीओ रक्षा मंत्रियों की बैठक में शामिल होने वाली हैं. 

भारत और पाकिस्तान की पहली बैठक
आठ सदस्यीय समूह के जून में होने वाले सम्मेलन से पहले एससीओ की ये बैठकें हो रही हैं. भारत और पाकिस्तान इस समूह के नए सदस्य बने हैं. जून में चीन के शहर क्विंगदाओ में होने वाले एससीओ सम्मेलन में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के शामिल होने की संभावना है.  एससीओ बैठकों में 24 अप्रैल को पाकिस्तान के विदेश और रक्षा मंत्री शामिल हो सकते हैं. 

यह देश हैं एससीओ का हिस्सा
एससीओ में चीन, कजाख्स्तान, किर्गिस्तान,रूस ,ताजीकिस्तान, उज्बेकिस्तान, भारत और पाकिस्तान है. सुषमा और सीतारमण के ये दौरे ऐसे वक्त हो रहे हैं जब भारत और चीन पिछले वर्ष के डोकलाम गतिरोध के कारण उपजे तनाव को दूर करने के लिए उच्च स्तर पर बातचीत कर रहे हैं. बीते 13 अप्रैल को राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजीत डोभाल ने चीन के विदेश मामलों के आयोग के निदेशक यांग जीची से शंघाई में मुलाकात की थी. उनके बीच संबंधों को सुधारने की दिशा में गहराई से बातचीत हुई थी.