‘स्वच्छ भारत’ को स्वस्थ व्यक्ति के साथ आगे बढ़ना चाहिए: सचिन

महान क्रिकेटर सचिन तेंदुलकर ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के ‘स्वच्छ भारत’ अभियान को आगे बढ़ाने की अपील करते हुए कहा कि आसपास के स्वच्छ माहौल के साथ-साथ स्वस्थ व्यक्ति भी तैयार होना चाहिए।

‘स्वच्छ भारत’ को स्वस्थ व्यक्ति के साथ आगे बढ़ना चाहिए: सचिन

नई दिल्ली : महान क्रिकेटर सचिन तेंदुलकर ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के ‘स्वच्छ भारत’ अभियान को आगे बढ़ाने की अपील करते हुए कहा कि आसपास के स्वच्छ माहौल के साथ-साथ स्वस्थ व्यक्ति भी तैयार होना चाहिए।

यहां जवाहर लाल नेहरू स्टेडियम में सीआरपीएफ ‘रन फोर यूनिटी’ को हरी झंडी दिखाकर रवाना करने के बाद तेंदुलकर ने कहा, आउटडोर खेल और गतिविधियां काफी अहम है क्योंकि यह सुनिश्चित करती हैं कि देश का स्वास्थ्य अच्छा रहे। हमारे प्रधानमंत्री ने स्वच्छ भारत के लिए हम सभी का आह्वान किया है और मैं आपसे स्वस्थ शरीर तैयार करने की भी अपील करता हूं। भारत रत्न से सम्मानित तेंदुलकर ने कहा कि प्रत्येक बच्चे को आउटडोर खेलों और गतिविधियों का हिस्सा बनना चाहिए।

तेंदुलकर उन नौ आइकन में शामिल हैं जिन्हें मोदी ने महत्वाकांक्षी ‘स्वच्छ भारत’ अभियान को आगे बढ़ाने के लिए चुना है। इस अभियान को प्रधानमंत्री ने गांधी जयंती के मौके पर दो अक्तूबर को लॉन्च किया था।

इस क्रिकेटर ने व्यस्त कार्यक्रम के बावजूद तड़के होने वाले इस कार्यक्रम के लिए स्वीकृति दी क्योंकि उन्हें पता चला था कि सीआरपीएफ अपनी स्थापना के 75 वर्ष पूरे होने पर अपने शहीदों के सम्मान में इस हाफ मैराथन का आयोजन कर रहा है।

सीआरपीएफ अधिकारियों ने बताया था कि तेंदुलकर सिर्फ हाफ मैराथन कार्यक्रम के लिए यहां आए थे और वह दो घंटे में वापस चले जाएंगे। इस मौके पर खेल जगत के अन्य स्टार मुक्केबाज विजेंदर सिंह और पहलवान योगेश्वर दत्त भी मौजूद थे। वरिष्ठ अभिनेता और राष्ट्रीय निशानेबाज नाना पाटेकर ने भी कार्यक्रम में शिरकत की।  विजेताओं को बाद में अभिनेता जान अब्राहम और सीआरपीएफ के महानिदेशक दिलीप त्रिवेदी ने सम्मानित किया।

हाफ मैराथन के विभिन्न वर्ग के विजेताओं के बीच 19 लाख 10 हजार रूपये की इनामी राशि बांटी गई। मैराथन में छात्रों, युवाओं, पुलिसकर्मियों और अर्धसैनिक बलों के कर्मचारियों ने हिस्सा लिया। अपने शहीदों को सम्मान देने के लिए सीआरपीएफ ने ट्राफी का नाम विभिन्न ‘शहीद’ कर्मचारियों के नाम पर रखा था।