Breaking News

SC में टाटा ग्रुप की अर्जी खारिज, नीलाम होगा होटल ताज मानसिंह

SC में टाटा ग्रुप की अर्जी खारिज, नीलाम होगा होटल ताज मानसिंह
SC में टाटा ग्रुप की अर्जी खारिज, नीलाम होगा होटल ताज मानसिंह (FILE PHOTO)

नई दिल्लीः सुप्रीम कोर्ट ने एनडीएमसी को राष्ट्रीय राजधानी के बीचोंबीच बसे होटल ताज मानसिंह की ई नीलामी की आज मंजूरी दे दी. टाटा समूह की इंडियन होटल्स कंपनी लिमिटेड यानि आईएचसीएल वर्तमान में इसका संचालन कर रही है. सुप्रीम कोर्ट के न्यायाधीश पीसी घोष और न्यायमूर्ति आरएफ नरीमन की पीठ ने नयी दिल्ली नगर पालिका परिषद की याचिका को मंजूर कर लिया कि टाटा समूह की कंपनी के पास होटल की ई नीलामी से इनकार करने का अधिकार नहीं हो सकता.

नीलाम होगा दिल्ली का ताज होटल

पीठ ने हालांकि एनडीएमसी से कहा कि अगर टाटा समूह ई नीलामी में हार जाता है तो वह होटल खाली करने के लिए कंपनी को छह माह का वक्त दे. पीठ ने यह भी कहा कि एनडीएमसी को इस ऐतिहासिक संपत्ति की ई नीलामी करते वक्त टाटा समूह की कंपनी आईएचसीएल के बेदाग इतिहास को भी ध्यान में रखना चाहिए. एनडीएमसी ने तीन मार्च को शीर्ष न्यायालय से कहा था कि वह होटल की ई नीलामी करना चाहती है.

शीर्ष न्यायालय ने होटल की नीलामी मंजूर करने के दिल्ली उच्च न्यायालय के फैसले को चुनौती देने पर आईएचसीएल से एक सप्ताह के भीतर अपनी आपत्तियां, अगर कोई हों तो उन्हें दाखिल करने के लिए कहा था. आईएचसीएल ने अपनी याचिका में कहा था कि यह ‘‘स्पष्ट नहीं’’ है कि एनडीएमसी उस संपत्ति को नीलाम क्यों करना चाहती है जिसने उसे ‘‘सर्वश्रेष्ठ राजस्व’’ दिया है.कंपनी ने कहा कि एनडीएमसी विशेषज्ञ रिपोर्ट में भी कहा गया है कि अगर होटल को किसी दूसरी पार्टी को नीलाम किया गया तो परिषद ‘‘राजस्व खो’’ देगी. उच्चतम न्यायालय ने पिछले वर्ष 21 नवंबर को अपने आदेश में होटल ताज मानसिंह की नीलामी में यथा स्थिति बनाए रखने को कहा था.

आईएचसीएल ने होटल की नीलामी को हरी झंड़ी देने वाले दिल्ली उच्च न्यायालय के फैसले के खिलाफ शीर्ष न्यायालय में आठ नवंबर को अपील की थी. गौरतलब है कि यह एनडीएमसी की संपत्ति है जिसे आईएचसीएल को 33 साल के पट्टे पर दिया गया था. पट्टे की यह अवधि 2011 में समाप्त हो गई जिसके बाद अनेक आधार पर कंपनी को नौ अस्थाई विस्तार दिए जा चुके हैं जिनमें से तीन एक्टेंशन तो पिछले वर्ष ही दिए गए थे.

इंडियन होटल्स ने कहा, ताज मानसिंह की ई नीलामी में भाग लेंगे

वहीं  इंडियन होटल्स कंपनी यानि आईएचसीएल ने आज ताज मानसिंह होटल की ई-नीलामी में शामिल होने की इच्छा जताई. कई दशक से टाटा समूह की कंपनी द्वारा इस होटल को चलाया जा रहा है. इंडियन होटल्स कंपनी ने पिछले साल आठ नवंबर को दिल्ली उच्च न्यायालय के फैसले के खिलाफ उच्चतम न्यायालय में अपील की थी. उच्च न्यायालय ने राष्ट्रीय राजधानी के ह्दयस्थल में स्थित इस होटल की नीलामी का रास्ता साफ कर दिया था.

कंपनी को आज उच्चतम न्यायालय ने झटका दिया है. न्यायालय ने नयी दिल्ली नगरपालिका परिषद :एनडीएमसी: को इस संपत्ति की ई-नीलामी की अनुमति दे दी है. कंपनी के प्रवक्ता ने ईमेल से भेजे जवाब में कहा कि हम उच्चतम न्यायालय के फैसले का सम्मान करते हैं और ई-नीलामी में शामिल होने का इरादा रखते हैं. हम अपने सहयोगियों तथा मेहमानों के प्रति प्रतिबद्ध हैं, जिनका भरोसा हमारी सबसे बड़ी संपत्ति है.

न्यायमूर्ति पी सी घोष और न्यायमूर्ति आर एफ नरीमन की पीठ ने आज एनडीएमसी की उस अपील को स्वीकार कर लिया कि होटल की नीलामी में आईएचसीएल के पास इनकार का अधिकार नहीं है. पीठ ने हालांकि एनडीएमसी से कहा है कि यदि कंपनी ई-नीलामी में सफल नहीं हो पाती है, तो उसे होटल खाली करने के लिए छह महीने की राहत दी जाएं.