DMK प्रमुख करुणानिधि की हालत स्थिर, हॉस्पिटल के बाहर समर्थकों पर लाठीचार्ज

यूरिनरी ट्रैक्ट इन्फेक्शन से पीड़ित करुणानिधि को ब्लड प्रेशर में कमी के बाद शुक्रवार देर रात अस्पताल में भर्ती कराया गया था. 

DMK प्रमुख करुणानिधि की हालत स्थिर, हॉस्पिटल के बाहर समर्थकों पर लाठीचार्ज
पूर्व मुख्यमंत्री की तबीयत बिगड़ने पर उन्हें चेन्नई के कावेरी हॉस्पिटल में भर्ती कराया गया है

नई दिल्ली : दक्षिण की राजनीति के कद्दावर नेता तथा डीएमके प्रमुख एम करुणानिधि की तबियत बिगड़ने के बाद उन्हें चेन्नई के कावेरी हॉस्पिटल में भर्ती कराया गया है. डॉक्टरों के मुताबिक उन्हें लाइफ सपोर्ट सिस्टम पर रखा गया है. फिलहाल उनकी हालत स्थिर बताई जा रही है. उधर, हॉस्पिटल के बाहर करुणानिधि समर्थकों का हुजूम उमड़ रहा है. समर्थकों की भीड़ के चलते यातायात जाम हो गया है. ट्रैफिक खुलवाने के लिए पुलिस को हल्के बल का प्रयोग करना पड़ा.

डॉक्टरों ने बताया कि जब उन्हें हॉस्पिटल में भर्ती कराया गया था, उस समय उनका ब्लड प्रेशर काफी गिरा हुआ था और पल्स रेट भी बहुत ही धीमी गति से चल रही थीं, लेकिन अब स्थिति में सुधार है. डॉक्टरों की एक टीम उनकी देखरेख में लगी हुई है. करुणानिधि का हालचाल जानने के लिए देशभर के तमाम नेताओं का तांता लगा हुआ है. उपराष्ट्रपति वेंकैया नायडू ने भी हॉस्पिटल जाकर उनका हाल जाना. पेशाब की नली में संक्रमण यानी यूरिनरी ट्रैक्ट इन्फेक्शन से पीड़ित करुणानिधि को ब्लड प्रेशर में कमी के बाद शुक्रवार देर रात अस्पताल में भर्ती कराया गया था. 

14 साल की उम्र में राजनीति में एंट्री करने वाले करुणानिधि ने कभी नहीं देखी हार

उनके बेटे एमके स्टालिन अस्पताल में ही रुके हुए हैं. उनके बड़े भाई एमके अलागिरी, डीएमके नेता ए. राजा भी उनका हालचाल जानने के लिए कावेरी अस्पताल पहुंचे. राज्यपाल बनवारीलाल पुरोहित भी हॉस्पिटल का दौरा कर चुके हैं. वहां मौजूद समर्थकों को समझाते हुए उन्होंने सभी से किसी भी तरह की अफवाह में नहीं आने की अपील की. उन्होंने कहा कि उनके नेता की हालत स्थिर है और समय-समय पर उनको उनकी (करुणानिधि) की तबीयत के बारे में जानकारी दी जाती रहेगी.

ए राजा ने कहा, 'ये सच है कि उनकी तबीयत अचानक बहुत खराब हो गई थी लेकिन डॉक्टरों ने उनका इलाज किया और अब उनकी हालत स्थिर है.' कावेरी हॉस्पिटल लगातार उनका हेल्थ बुलेटिन जारी कर रहा है. 

94 वर्षीय नेता तमिलनाडु की राजनीति के एक मजबूत स्तंभ माने जाते हैं. पूर्व मुख्यमंत्री के घर पर उनके समर्थक जुटने शुरू हो गए हैं. पुलिस ने वहां भी सुरक्षा के कड़े इंतजाम किए हैं.