Breaking News
  • देश में आत्‍मनिर्भर भारत सप्‍ताह की शुरुआत
  • दूसरों की ताकत पर निर्भर नहीं रहना चाहिए: रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह

आईटीबीपी जवान ने देश के कोरोना योद्धाओं को समर्पित किया 'तेरी मिट्टी' गाना

3 मिनट 31 सेकंड के इस गाने में आईटीबीपी की कोरोना के खिलाफ लड़ाई को शब्दों में बयान किया है.

आईटीबीपी जवान ने देश के कोरोना योद्धाओं को समर्पित किया 'तेरी मिट्टी' गाना
आईटीबीपी जवान अर्जुन खेरियल | फोटो साभार: यूट्यूब

नई दिल्ली: भारत तिब्बत सीमा पुलिस (आईटीबीपी) के जवान हेड कांस्टेबल अर्जुन खेरियल ने अक्षय कुमार की फिल्म केसरी के ‘तेरी मिट्टी’ गाने को अलग तरीके से  प्रस्तुत करते हुए देश के कोरोना फाइटर्स को समर्पित किया है. 3 मिनट 31 सेकंड के इस गाने में अर्जुन ने आईटीबीपी की कोरोना के खिलाफ लड़ाई को शब्दों में बयान किया है और साथ ही सुरक्षाबलों, पुलिस और चिकित्सा कर्मियों आदि को भी इसे समर्पित किया है, जो दिन रात इस वैश्विक महामारी से जूझ रहे हैं.

बता दें कि आईटीबीपी ने कोरोना के देश में प्रारंभिक प्रसार के पहले ही देश का पहला 1,000 बिस्तरों का क्वारंटाइन सेंटर दिल्ली के छावला इलाके में स्थापित किया था. इसमें अलग-अलग दलों के लगभग 1,200 लोगों को क्वारंटाइन में रखा गया. इन लोगों में 7 मित्र देशों के 42 नागरिक भी शामिल थे. इनमें से ज्यादातर लोग चीन के वुहान और इटली के मिलान व रोम से लाए गए थे. आईटीबीपी ने स्वयं के संसाधनों से पीपीई किट और मास्क भी तैयार किए और कई संगठनों को मुफ्त में बांटे.

आईटीबीपी ने देश के दूरदराज के इलाकों में लॉकडाउन की परिस्थितियों में खाने और आवश्यक वस्तुओं की सप्लाई जारी रखने में मदद की है और साथ ही हजारों लोगों तक भोजन और अन्य सामग्री भी स्वयं उपलब्ध करवाई है.

ये भी पढ़ें- 'शूटर दादी' ने पूछी दिमाग घुमा देने वाली पहेली, क्या आप जानते हैं जवाब?

तेरी मिट्टी गाने में भावुकता, राष्ट्र प्रेम और आत्मविश्वास की झलक देखने को मिलती है जो आईटीबीपी समेत केंद्रीय बलों की जीवटता और राष्ट्रीय विपदा की घड़ी में उनके साहस, त्याग और बलिदान को भी दर्शाता है.

वैसे तेरी मिट्टी गाने को मनोज मुंतशिर ने लिखा है लेकिन इस गाने को आईटीबीपी द्वारा ही तैयार किया गया है.

LIVE TV