close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

सुरक्षा बलों ने नाकाम की आतंकियों की साजिश, फायरिंग कर रोकी घुसपैठ

ख़ुफ़िया विभाग के मुताबिक तड़के सीमावर्ती ज़िले कुपवाड़ा के नौगाम सेक्टर में नियंत्रण रेखा (एलओसी) पार करते हुए आतंकियों की एक टोली को बीएसएफ के सतर्क जवानों ने देखा. बीएसएफ ने इन घुसपैठियों को देखा और उनपर चेतावनी के तौर पर गोली चला दी.

सुरक्षा बलों ने नाकाम की आतंकियों की साजिश, फायरिंग कर रोकी घुसपैठ
कुपवाड़ा में सेना घुसपैठ रोकने में सफल रही. तस्वीर साभार- ट्विटर पेज @BSF_India

श्रीनगर: सीमा सुरक्षाबल के जवानों ने पाकिस्तान (Pakistan) की ओर से घुसपैठ की एक बड़ी कोशिश को किया विफल कर दिया है. इलाके में अब भी बड़े पैमाने में तलाशी अभियान जारी है. वहीं गांदेरबल के गंगबल जंगलों में 10 दिनों से चल रहे आतंक विरोधी ऑपरेशन में शामिल हुए पारा कमांडों, आतंकियों को तलाशने के लिए सेना ने जंगलों में अस्थाई बेस कैंप बना लिया है.

ख़ुफ़िया विभाग के मुताबिक तड़के सीमावर्ती ज़िले कुपवाड़ा के नौगाम सेक्टर में नियंत्रण रेखा (एलओसी) पार करते हुए आतंकियों की एक टोली को बीएसएफ के सतर्क जवानों ने देखा. बीएसएफ ने इन घुसपैठियों को देखा और उनपर चेतावनी के तौर पर गोली चला दी, जवाब में आतंकियों ने भी गोलियां दागी तो कुछ घंटों तक मुठभेड़ चली, मगर आतंकी धुंध का फ़ायदा उठाकर पीओके क्षेत्र में वापस भाग खड़े हुए. इस इलाके में अब भी सेना और बीएसएफ का तलाशी अभियान जारी है, ताकि अगर कोई आतंकी भारत के सीमा में छुपा हो तो उसे ढेर किया जाए. पाकिस्तान (Pakistan) की तरफ से घुसपैठ की कोशिश तेज़ होता देख सीमाओं को पहले से ही रेड अलर्ट पर रखा गया है और अतिरिक्त मात्रा में सुरक्षाबलों को सीमाओं पर तैनात किया गया है.

इससे पहले भी 12 और 13 सितंबर की रात को भारतीय सेना ने केरन की एलओसी के पास पाकिस्तान (Pakistan) की ओर से घुसपैठ की कोशिश को नाकाम कर दिया था. इसके अलावा घुसपैठ की कोशिश के दौरान सेना ने पाकिस्तान (Pakistan) के एक बैट कमांडो को मार गिराया. सेना ने घटना का एक थर्मल वीडियो भी जारी किया है. एक खुफिया रिपोर्ट के मुताबिक कुपवाड़ा के माछिल और केरन सेक्टर सहित नियंत्रण रेखा के पास कई स्थानों पर भारी संख्या में आतंकवादी लांच पैड्स पर देखे गए हैं. दोनों सेक्टरों को रिपोर्ट के बाद हाई अलर्ट पर रखा गया है.

लाइव टीवी देखें-:

आतंकवादियों को पाकिस्तान (Pakistan) के जुरा इलाके के एक लॉन्चपैड पर भी देखा गया है. यह क्षेत्र केरन सेक्टर के करीब है. सूत्रों ने बताया कि यहां जैश-ए-मोहम्मद के आतंकवादियों के छह ग्रुप को सीमा पार एक और लॉन्चपैड पर देखा गया है.

नियंत्रण रेखा ही नहीं बल्कि, जम्मू कश्मीर के कई इलाकों में आतंक विरोधी ऑपरेशन जारी है. पिछले 10 दिनों से कश्मीर के गांदेरबल ज़िले के गंगबल जंगलों में जो आतंक विरोधी जो ऑपेरशन चल रहा है, उसमें अब सेना के इलाइट कमांडो एयरड्रॉप किये गए हैं. इन जंगलों में सुचना है कि आतंकी हाल ही में गुरेज़ सेक्टर से घुसपेठ किये हैं और श्रीनगर या दक्षिणी कश्मीर के त्राल जाने के लिए इस ट्रैक पर आये थे, लेकिन सेना ने उन्हें इन जंगलों में इंटरसेप्ट किया.

पिछले 10 दिनों से छिपे हुए आतंकवादियों का पता लगाने के लिए बड़े पैमाने पर सेना अभियान चलाया जा रहा है. सेना को सुचना है कि इन पहाड़ी इलाकों में दक्षिण कश्मीर के त्राल की ओर जाने की कोशिश कर रहे आतंकवादियों का एक बड़ा ग्रुप हो सकता है. यहां आतंकियों को जब इंटरसेप्ट किया गया था तो एक मुठभेड़ हुई थी, जिसमें दो आतंकी मारे गए थे. सुरक्षाबलों का माना है कि यह आतंकी हाल ही में गुरेज़ सेक्टर से नियंत्रण रेखा पार कर आये हैं.

यह केंद्र सरकार की ओर से जम्मू और कश्मीर का विशेष दर्जा समाप्त करने के बाद कश्मीर घाटी में शुरू किए गए सबसे बड़े आतंकवाद विरोधी अभियान में से एक है. इस ऑपेरशन में अब भारतीय सेना के एलीट पैरा-टॉपर को पहाड़ी क्षेत्र में एयरड्रॉप किया गया हैं, क्योंकि इन जंगलों में जाने के लिए कोई वाहन का रास्ता नहीं और जहां तक गाडी जाती है, वहां से घटना सथल तक पैदल 7 घंटे का रास्ता है. 

आंकड़ों के मुताबिक 5 अगस्त के बाद से आतंकवादियों की घुसपैठ और गतविधियों में वृद्धि हुई है, क्योंकि सुरक्षाबलों ने घाटी के रिहाइशी इलाकों में ऑपरेशन बंद कर दिए थे. पुलिस सूत्रों के अनुसार, कई जगहों पर आतंकवादी देखे गए हैं और 500 से अधिक सर्च ऑपरेशन भी किए गए हैं. हालांकि केवल तीन ऑपरेशनों में मुठभेड़ हुई, जिसमें आतंकवादी मारे गए.

सुरक्षाबलों का मानना ​​है कि आतंकवादी कश्मीर घाटी में घुसपैठ करने की पूरी कोशिश कर रहे हैं और पाकिस्तान (Pakistan)ी सेना उनका पूरा साथ दे रही है. वह घुसपैठ वाली पहाड़ियां बर्फ से ढके जाने से पहले पाकिस्तान (Pakistan) चाहता है कि ज्यादा से ज्यादा आतंकी कश्मीर में दाखिल कराए जाएं. एक पुलिस अधिकारियों के अनुसार पिछले दो महीनों में लगभग 50-60 आतंकवादी घाटी में घुसपैठ कर चुके हैं.