close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

धरी रह गई पाकिस्तान की चाल, अब दाऊद के करीबी को थाईलैंड से लाया जाएगा भारत

थाईलैंड की कोर्ट ने दाऊद के करीबी मुन्ना झिंगड़ा भारत प्रत्यर्पित करने का आदेश दिया

धरी रह गई पाकिस्तान की चाल, अब दाऊद के करीबी को थाईलैंड से लाया जाएगा भारत
मुन्ना झिंगाड़ा का असली नाम मुजक्किर मुदस्सर हुसैन है जिसे कुख्यात डॉन दाऊद इब्राहिम का बेहद करीबी माना जाता है. (फाइल फोटो)

मुंबईः थाईलैंड की अदालत में पाकिस्तान को ज़बरदस्त शिकस्त देकर भारतीय एजेंसियों ने एक बड़ी जीत दर्ज की है. थाईलैंड की कोर्ट ने दाऊद के करीबी मुजक्किर मुदस्सर हुसैन उर्फ मुन्ना झिंगड़ा को भारत का नागरिक मानते हुए उसे जल्द ही भारत को प्रत्यर्पित करने का आदेश दिया है. इससे पहले पाकिस्तान उसे बचाने के लिए पाकिस्तानी नागरिक होने का दावा कर रहा था लेकिन थाईलैंड की अदालत ने पाकिस्तान के दावे को खारिज करते हुए भारत के पक्ष में फैसला सुनाया.

गौरतलब है कि बैंगकॉक में छोटा राजन पर जानलेवा हमले के दौरान राजन की पत्नी और उसके गुर्गे रोहित वर्मा की हत्या के मामले में थाईलैंड पुलिस ने मुन्ना समेत उसके दो साथी गुरप्रीत सिंह भुल्लर और युसूफ गोद्रावाला ऐसे कुल 3 लोगों को गिरफ्तार किया था. जिसमें थाईलैंड की अदालत ने तीनों को 16 साल की सज़ा सुनाई थी. ये सज़ा पूरी होने के बाद भारतीय एजेंसियां मुन्ना को भारत डिपोर्ट करवाना चाहती थी लेकिन पाकिस्तान ने फ़र्ज़ी दस्तावेज़ों के आधार पर मुन्ना के पाकिस्तानी नागरिक होने का दावा किया और उसे भारत प्रत्यर्पित किये जाने का विरोध किया था.

पाकिस्तान को मुंह तोड़ जवाब देते हुए भारतीय एजेंसियों ने मुन्ना के फिंगर प्रिंट्स और उसके परिवार के डीएनए रिपोर्ट को थाईलैंड की अदालत में पेश किया जिसके बिनाह पर पाकिस्तान आख़िरकार बेनक़ाब हुआ. रिटायर्ड आईपीएस अधिकारी पी.के. जैन का कहना है कि वो दाऊद का शार्प शूटर था और आईएसआई के लिए भी काम करता था. ये हमारे लिए बहुत बड़ी जीत है. 

मुदस्सर हुसैन के मुन्ना बनने की कहानी 
मुजक्किर मुदस्सर हुसैन से मुन्ना झिंगाड़ा बनने की कहानी भी बड़ी दिलचस्प है. अंडरवर्ल्ड की दुनिया में गुर्गों के लिए एक ख़ास नाम रखने की परंपरा बेहद  पुरानी है. दरअसल कई आपराधिक मामलों में मुन्ना पुलिस के हाथों बाल-बाल बच जाता. पानी में पाए जाने वाले झिंगा (Prawns) जिस तरह फुर्तीला होता है मुन्ना भी पुलिस को चकमा देने में उतना ही फुर्तीला था यही वजह है कि जुर्म की दुनिया ने मुजक्किर मुदस्सर हुसैन को मुन्ना झिंगाड़ा नाम की नयी पहचान मिली. अब एक तरफ जहाँ मुन्ना झिंगाड़ा के भारत प्रत्यार्पण का रास्ता साफ़ होते जा रहा है वहीँ दूसरी ओर भारतीय एजेंसियों को मुन्ना से दाऊद और पाकिस्तानी ख़ुफ़िया एजेंसी आईएसआई के बारे में कई अहम् खुलासे होने की उम्मीद है. 

बाइट - एस. बालाकृष्णन, वरिष्ठ पत्रकार (हमें मुन्ना से काफी अहम् जानकारियां मिल सकती हैं.)

कौन है मुन्ना झिंगाडा?
मुन्ना झिंगाड़ा का असली नाम मुजक्किर मुदस्सर हुसैन है जिसे कुख्यात डॉन दाऊद इब्राहिम का बेहद करीबी माना जाता है. साल 2000 में दाऊद ने अपने सबसे बड़े दुश्मन छोटा राजन को मौत के घाट उतारने की ज़िम्मेदारी मुन्ना को ही सौंपी थी. मुंबई के जोगेश्वरी इलाके का रहनेवाला मुन्ना शुरुवाती दिनों में छिटपुट क्राइम केसेस को अंजाम देने के बाद डी कंपनी में शामिल हुआ और उसके बाद से दाऊद के इशारे पर मर्डर और एक्सटॉरशन का काम करने लगा. मुन्ना के खिलाफ मुंबई के अलग अलग पुलिस थानों में कई गंभीर मामले दर्ज हैं. 

हालांकि मुन्ना के प्रत्यर्पण के मामले में भारतीय एजेंसियों को फिलहाल निचली अदालत में जीत मिली है और इस फैसले को ऊपरी अदालत में चुनौती देने के लिए मुन्ना के वकीलों को एक महीने का वक्त दिया गया है लेकिन जानकारों के मुताबिक अब तक सामने आये ठोस सबूतों को देखते हुए भारतीय एजेंसियों को फाइनल जीत भी पक्की नज़र आ रही है. साफ़ है कि फ़ारूक़ टकला से लेकर मुन्ना झिंगाड़ा तक दाऊद के एक एक गुर्गे मोदी सरकार के निशाने पर है  वो दिन भी दूर नहीं जब खुद दाऊद भी भारतीय एजेंसियों की गिरफ्त में होगा.